if you want to remove an article from website contact us from top.

    न्यूटन के गति के नियम और खेलों में उनके अनुप्रयोग की व्याख्या कीजिए।

    Mohammed

    Guys, does anyone know the answer?

    get न्यूटन के गति के नियम और खेलों में उनके अनुप्रयोग की व्याख्या कीजिए। from screen.

    न्यूटन के गति के नियम प्रथम, द्वितीय, तृतीय

    gati ke niyam ka ullekh kijiye, गति का तृतीय नियम, सूत्र, द्वितीय गणितीय व्याख्या कीजिए, न्यूटन के उदाहरण सहित, Newton law of motion in Hindi, लिखिए गति के नियम प्रथम

    न्यूटन के गति के नियम प्रथम, द्वितीय, तृतीय | सूत्र, उदाहरण सहित तीनों नियम लिखिए

    विषय-सूची

    इसमें न्यूटन के गति के तीनो नियम के बारे में उदाहरण सहित एवं सूत्र का भी वर्णन किया गया है सभी की परिभाषा आसान शब्दों में है।

    ताकि आप students को तीनों गति के नियम समझने में कोई परेशानी न हो।

    न्यूटन के गति के नियम (Newton law of motion in Hindi)

    न्यूटन के गति के तीन नियम हैं।

    गति का प्रथम नियम – जड़त्व का नियम

    गति का द्वितीय नियम – संवेग का नियम

    गति का तृतीय नियम – क्रिया-प्रतिक्रिया नियम

    1. गति का प्रथम नियम (जड़त्व का नियम)

    न्यूटन के गति के प्रथम नियम के अनुसार, यदि कोई वस्तु विरामावस्था में है तो वह विरामावस्था में ही रहेगी। वस्तु पर कोई बाह्य बल लगाकर ही वस्तु को विरामावस्था से गति की अवस्था में परिवर्तित किया जा सकता है। एवं यदि कोई वस्तु गतिशील अवस्था में है तो वह एक समान चाल से सरल रेखा में चलती ही रहेगी। जब तक उस वस्तु पर बाह्य बल न लगाया जाए। इसे गति का प्रथम नियम कहते हैं। इसे जड़त्व का नियम भी कहा जाता है।

    उदाहरण

    (1) चलती रेलगाड़ी से अचानक उतर जाने पर व्यक्ति आगे की ओर गिर जाते हैं।

    (2) खिड़की के शीशे पर बंदूक से गोली मारने पर शीशे में छेद हो जाता है।

    2. गति का द्वितीय नियम (संवेग का नियम)

    न्यूटन के गति के द्वितीय नियम के अनुसार, किसी वस्तु के रेखीय संवेग में परिवर्तन की दर उस वस्तु पर लगाए गए बाह्य बल के अनुक्रमानुपाती होती है एवं संवेग परिवर्तन वस्तु पर लगाए गए बल की दिशा में ही होता है इसे गति का द्वितीय नियम कहते हैं एवं इस नियम को संवेग का नियम भी कहते हैं।

    उदाहरण क्रिकेट खेल में खिलाड़ी तेजी से आती गेंद को कैच करते समय अपने हाथों को पीछे की ओर कर लेता है इससे गेंद का वेग कम हो जाता है और खिलाड़ी को कोई चोट नहीं लगती है।पढ़ें… 11वीं भौतिक नोट्स | 11th class physics notes in Hindi

    3. गति का तृतीय नियम (क्रिया-प्रतिक्रिया नियम)

    न्यूटन के गति के तृतीय नियम के अनुसार, प्रत्येक क्रिया के बराबर एवं विपरीत दिशा में प्रतिक्रिया होती है। गति के तृतीय नियम को क्रिया-प्रतिक्रिया नियम भी कहते हैं।

    उदाहरण

    (1) गति के तृतीय नियम को ऐसे समझते हैं कि आप किसी टेबल पर हाथ रखकर खड़े हैं तो जितना बल आपका हाथ टेबल पर बल लगा रहा है उतना ही बल टेबल आपके हाथ पर लगा रही है। आपने देखा होगा कि कमजोर छत पर ज्यादा बल अर्थात् कई व्यक्तियों के बैठने पर वह छत टूट जाती है अतः वह छत प्रतिक्रिया बल उतना नहीं लगा पाती है जितना व्यक्ति उस पर क्रिया बल लगा देते हैं।

    (2) कुएं से जल खींचते समय रस्सी टूटने पर रस्सी खींचने वाला पीछे की ओर गिर जाता है।

    (3) बंदूक से गोली मारने पर पीछे की ओर धक्का लगना।

    शेयर करें…

    स्रोत : studynagar.com

    न्यूटन के गति नियम

    न्यूटन के गति नियम

    मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

    नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

    न्यूटन के गति के प्रथम एवं द्वितीय नियम, सन १६८७ में लैटिन भाषा में लिखित न्यूटन के प्रिन्सिपिया मैथेमेटिका से

    न्यूटन के गति नियम भौतिक नियम हैं जो चिरसम्मत यांत्रिकी के आधार हैं। यह नियम किसी वस्तु पर लगने वाले बल और उससे उत्पन्न उस वस्तु की गति के बीच सम्बन्ध बताते हैं। इन्हें तीन सदियों में अनेक प्रकार से व्यक्त किया गया है।[1] न्यूटन के गति के तीनों नियम, पारम्परिक रूप से, संक्षेप में निम्नलिखित हैं-प्रथम नियम: प्रत्येक पिण्ड तब तक अपनी विरामावस्था में अथवा सरल रेखा में एकसमान गति की अवस्था में रहता है जब तक कोई बाह्य बल उसे करने के लिजड़त्श नहीं करता। इसे नियम भी कहा जाता है।[2][3][4]द्वितीय नियम: किसी भी पिंड की संवेग परिवर्तन की दर लगाये गये बल के समानुपाती होती है और उसकी (संवेग परिवर्तन की) दिशा वही होती है जो बल की है।

    {\displaystyle F\propto {\frac {mv-mu}{t}}}

    {\displaystyle F\propto {\frac {m(v-u)}{t}}}

    {\displaystyle F\propto ma}

    {\displaystyle F=ma}

    {\displaystyle F}

    = बल, न्यूटन (N) या (

    {\displaystyle kg.m/s^{2}}

    ) {\displaystyle m} = द्रव्यमान ( {\displaystyle kg} ) {\displaystyle a} = त्वरण (

    {\displaystyle m.s^{-2}}

    )

    तृतीय नियम: प्रत्येक क्रिया की सदैव बराबर एवं विपरीत दिशा में प्रतिक्रिया होती है।

    सबसे पहले न्यूटन ने इन्हे अपने ग्रन्थ (सन १६८७) में संकलित किया था।[5] न्यूटन ने अनेक स्थानों पर भौतिक वस्तुओं की गति से सम्बन्धित समस्याओं की व्याख्या में इनका प्रयोग किया था। अपने ग्रन्थ के तृतीय भाग में न्यूटन ने दर्शाया कि गति के ये तीनों नियम और उनके सार्वत्रिक गुरुत्वाकर्षण का नियम सम्मिलित रूप से केप्लर के आकाशीय पिण्डों की गति से सम्बन्धित नियम की व्याख्या करने में समर्थ हैं।

    अनुक्रम

    1 सिंहावलोकन

    2 गति के नियम क्यों महत्वपूर्ण हैं?

    3 प्रथम नियम 4 द्वितीय नियम 4.1 आवेग 5 सन्दर्भ 6 इन्हें भी देखें 7 बाहरी कड़ियाँ

    सिंहावलोकन[संपादित करें]

    न्यूटन के गति नियम सिर्फ उन्ही वस्तुओं पर लगाया जाता है जिन्हें हम एक कण के रूप में मान सके।[6] मतलब कि उन वस्तुओं की गति को नापते समय उनके आकार को नज़रंदाज़ किया जाता है। उन वस्तुओं के पिंड को एक बिंदु में केन्द्रित मान कर इन नियमो को लगाया जाता है। ऐसा तब किया जाता है जब विश्लेषण में दूरियां वस्तुयों की तुलना में काफी बड़े होते है। इसलिए ग्रहों को एक कण मान कर उनके कक्षीय गति को मापा जा सकता है।

    अपने मूल रूप में इन गति के नियमो को दृढ और विरूपणशील पिंडों पर नहीं लगाया जा सकता है। १७५० में लियोनार्ड यूलर ने न्यूटन के गति नियमो का विस्तार किया और यूलर के गति नियमों का निर्माण किया जिन्हें दृढ और विरूपणशील पिंडो पर भी लगाया जा सकता है। यदि एक वस्तु को असतत कणों का एक संयोजन माना जाये, जिनमे अलग-अलग कर के न्यूटन के गति नियम लगाये जा सकते है, तो यूलर के गति नियम को न्यूटन के गति नियम से वियुत्त्पन्न किया जा सकता है।[7]

    न्यूटन के गति नियम भी कुछ निर्देश तंत्रों में ही लागु होते है जिन्हें जड़त्वीय निर्देश तंत्र कहा जाता है। कई लेखको का मानना है कि प्रथम नियम जड़त्वीय निर्देश तंत्र को परिभाषित करता है और द्वितीय नियम सिर्फ उन्ही निर्देश तंत्रों से में मान्य है इसी कारण से पहले नियम को दुसरे नियम का एक विशेष रूप नहीं कहा जा सकता है। पर कुछ पहले नियम को दूसरे का परिणाम मानते है।[8][9] निर्देश तंत्रों की स्पष्ट अवधारणा न्यूटन के मरने के काफी समय पश्चात विकसित हुई।

    न्यूटनी यांत्रिकी की जगह अब आइंस्टीन के विशेष आपेक्षिकता के सिद्धांत ने ले ली है पर फिर भी इसका इस्तेमाल प्रकाश की गति से कम गति वाले पिंडों के लिए अभी भी किया जाता है।[10]

    गति के नियम क्यों महत्वपूर्ण हैं?[संपादित करें]

    न्यूटन के नियम आवश्यक हैं क्योंकि वे रोजमर्रा की जिंदगी में हम जो कुछ भी करते हैं या देखते हैं, उससे संबंधित हैं।[11] ये कानून हमें बताते हैं कि चीजें कैसे चलती हैं या स्थिर रहती हैं, हम अपने बिस्तर से बाहर क्यों नहीं तैरते या अपने घर के फर्श से गिरते नहीं हैं।

    प्रथम नियम[संपादित करें]

    न्यूटन के मूल शब्दों में

    हिन्दी अनुवाद

    "प्रत्येक वस्तु अपने स्थिरावस्था अथवा एकसमान वेगावस्था मे तब तक रहती है जब तक उसे किसी बाह्य कारक (बल) द्वारा अवस्था में बदलाव के लिए प्रेरित नहीं किया जाता।"

    दूसरे शब्दों में,

    न्यूटन का प्रथम नियम पदार्थ के एक प्राकृतिक गुण जड़त्व को परिभाषित करता है जो गति में बदलाव का विरोध करता है। इसलिए प्रथम नियम को जड़त्व का नियम भी कहते है। यह नियम अप्रत्क्ष रूप से जड़त्वीय निर्देश तंत्र (निर्देश तंत्र जिसमें अन्य दोनों नियमों मान्य हैं) तथा बल को भी परिभाषित करता है। इसके कारण न्यूटन द्वारा इस नियम को प्रथम रखा गया।

    यह नियम किसी भी मनमाने फ्रेम में लागू नहीं होता है। यह नियम केवल विशेष प्रकार के फ्रेम में लागू होता है, जिसे "जड़त्वीय फ्रेम" के रूप में जाना जाता है। इसलिए, जड़त्वीय फ्रेम वह फ्रेम है जिसमें न्यूटन का पहला नियम लागू होता है। एक जड़त्वीय फ्रेम के संबंध में निरंतर वेग के साथ आगे बढ़ने वाला कोई भी फ्रेम एक जड़त्वीय फ्रेम है।

    इस नियम का सरल प्रमाणीकरण मुश्किल है क्योंकि घर्षण और गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव को ज्यादातर पिण्ड महसूस करते हैं।

    असल में न्यूटन से पहले गैलीलियो ने इस प्रेक्षण का वर्णन किया। न्यूटन ने अन्य शब्दों में इसे व्यक्त किया।

    द्वितीय नियम[संपादित करें]

    न्यूटन के मूल शब्दो में :

    हिन्दी में अनुवाद

    " किसी वस्तु के संवेग मे आया बदलाव उस वस्तु पर आरोपित बल (Force) के समानुपाती (Directly proposnal) होता है तथा समान दिशा में घटित होता है। "

    स्रोत : hi.wikipedia.org

    CBSE ICSE State Boards Solutions

    CBSE ICSE State Boards Free Study Material for Class 8th - 12th Find Zigya, Exam, NCERT Solutions Textbook Questions and Answers | Sample Papers, Previous Year Papers, Pre Board Papers, Book Store.

    Assam Board

    UP Board

    UP Board - Hindi Medium

    Manipur Board

    CBSE

    CBSE - Hindi Medium

    Goa Board

    Gujarat Board - English Medium

    Haryana Board - English Medium

    Haryana Board - Hindi Medium

    Himachal Pradesh Board

    Himachal Pradesh Board - Hindi Medium

    ICSE

    Jharkhand Board

    Jharkhand Board - Hindi Medium

    Jammu and Kashmir Board

    Karnataka Board

    Meghalaya Board

    Mizoram Board

    Maharashtra Board

    Nagaland Board

    Punjab Board

    Rajasthan Board - English Medium

    Rajasthan Board - Hindi Medium

    Tripura Board

    Uttarakhand Board

    Uttarakhand Board - Hindi Medium

    Gujarat Board - Gujarati Medium

    स्रोत : www.zigya.com

    Do you want to see answer or more ?
    Mohammed 1 month ago
    4

    Guys, does anyone know the answer?

    Click For Answer