if you want to remove an article from website contact us from top.

    वर्तमान में कर मुक्त आय की सीमा क्या है

    Mohammed

    Guys, does anyone know the answer?

    get वर्तमान में कर मुक्त आय की सीमा क्या है from screen.

    निर्धारण वर्ष 2022

    मुख्य पृष्ठ मुख्य पृष्ठ Tax payer

    निर्धारण वर्ष 2022-2023 के लिए वरिष्ठ नागरिकों और अति वरिष्ठ नागरिकों

    निर्धारण वर्ष 2022-2023 के लिए वरिष्ठ नागरिकों और अति वरिष्ठ नागरिकों के लिए लागू विवरणी और फ़ॉर्म

    अस्वीकरण:इस पेज की सामग्री केवल अवलोकन और सामान्य मार्गदर्शन देने के लिए है और संपूर्ण नहीं है। सम्पूर्ण ब्यौरा और दिशानिर्देशों के लिए कृपया आयकर अधिनियम, नियम और अधिसूचना देखें।

    एक निवासी व्यक्ति जो पिछले वर्ष के दौरान आयु में 60 या उससे अधिक लेकिन 80 वर्ष से कम के हो गये हैँ, आय कर उद्देश्यों के लिए उन्हें वरिष्ठ नागरिक माना जाता है। एक अति वरिष्ठ नागरिक वह निवासी व्यक्ति हैँ जो पिछले वर्ष किसी भी समय 80 वर्ष या उससे अधिक के हो गये हैँ।

    टिप्पणी: आयकर अधिनियम, 1961 का अनुभाग 194P 75 वर्ष और उससे अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों को आयकर विवरणी दाखिल करने से छूट देने की शर्तें प्रदान करता है। छूट के लिए शर्तें:

    वरिष्ठ नागरिक की आयु 75 वर्ष या उससे अधिक होनी चाहिए

    वरिष्ठ नागरिक पिछले वर्ष में 'निवासी' होना चाहिए

    वरिष्ठ नागरिक के पास केवल पेंशन आय और ब्याज आय और उसी निर्दिष्ट बैंक से अर्जित / अर्जित ब्याज आय है जिसमें वह अपनी पेंशन प्राप्त कर रहा है

    नया अनुभाग 194P 1 अप्रैल 2021 से लागू है

    1. आई.टी.आर.-1 (सहज) – व्यक्ति के लिए लागू

    यह विवरणी निवासी ( साधारणतया निवासी नहीं के अलावा) उस व्यक्ति के लिए लागू होता है, जिसकी कुल आय निम्नलिखित स्रोतों से ₹ 50 लाख तक है।

    वेतन / पेंशन एक गृह संपत्ति अन्य स्रोत (ब्याज, परिवार की पेंशन, लाभांश आदि) ₹ 5,000 तक की कृषि-आय

    टिप्पणी: ITR-1 का उपयोग उस व्यक्ति द्वारा नहीं किया जा सकता जो:

    (a) किसी कंपनी में निदेशक है

    (b) पूर्व वर्ष के दौरान किसी भी समय किसी भी गैर-सूचीबद्ध इक्विटी शेयर

    (c) भारत से बाहर स्थित कोई भी संपत्ति (किसी भी संस्था में वित्तीय हित सहित) है

    (d) भारत से बाहर स्थित किसी भी खाते में हस्ताक्षर करने का प्राधिकार है

    (e) भारत से बाहर किसी भी स्रोत से आय है

    (f) वह व्यक्ति है जिसके मामले में कर धारा 194N के तहत काटा गया है

    ( g ) वह व्यक्ति जिसके भुगतान का मामला या कर की कटौती को ESOP पर स्थगित कर दिया गया है।

    2. ITR-2- व्यक्ति और एच.यू.एफ. के लिए लागू

    यह विवरणी व्यक्ति और हिन्दु अविभाजित परिवार (एच.यू.एफ.) के लिए लागू है।

    कारोबार या वृत्ति से लाभ या अभिलाभ शीर्ष के अंतर्गत आय न होना आई.टी.आर.-1 दाखिल करने के लिए कौन पात्र नहीं है

    3. ITR-3- व्यक्ति और एच.यू.एफ. के लिए लागू

    यह विवरणी व्यक्ति और हिन्दु अविभाजित परिवार (एच.यू.एफ.) के लिए लागू है।

    कारोबार या व्यवसाय से लाभ या अभिलाभ शीर्ष के अंतर्गत आय होना आई.टी.आर.-1, 2 या 4 दाखिल करने के लिए कौन पात्र नहीं है

    4. ITR- 4 ( सुगम ) - व्यक्ति, एच.यू.एफ. और फर्म ( LLP के अलावा ) के लिए लागू

    यह विवरणी एक व्यक्ति या हिन्दु अविभाजित परिवार (एच.यू.एफ.) के लिए लागू होता है, जो साधारणतया निवासी के अलावा अन्य निवासी नहीं है या एक फर्म (एल.एल.पी. के अलावा) जो एक निवासी है जो ₹ 50 लाख तक की कुल आय वाला है और जिसकी आय कारोबार और व्यवसाय से है जो की निम्नलिखित स्रोतों से किसी भी प्रकल्पित आधार और आय पर संगणित की जाती है:

    वेतन/ पेंशन एक गृह संपत्ति अन्य स्रोत (ब्याज, परिवार की पेंशन, लाभांश आदि) ₹ 5,000 तक की कृषि-आय कारोबार / व्यवसाय से आय धारा 44AD / 44ADA / 44AE के तहत अनुमानित आधार पर संगणित की जाती है

    टिप्पणी: ITR - 4 का उपयोग उस व्यक्ति द्वारा नहीं किया जा सकता है जो:

    (a) किसी कंपनी में निदेशक है

    (b) पूर्व वर्ष के दौरान किसी भी समय किसी भी गैर-सूचीबद्ध इक्विटी शेयर

    (c) भारत से बाहर स्थित कोई भी संपत्ति (किसी भी संस्था में वित्तीय हित सहित) है

    (d) भारत से बाहर स्थित किसी भी खाते में हस्ताक्षर करने का प्राधिकार है

    (e) भारत से बाहर किसी भी स्रोत से आय है

    (f) वह व्यक्ति है जिसके मामले में ESOP पर कर भुगतान की राशि या कर कटौती को आस्थगित कर दिया गया है

    कृपया ध्यान दें कि आई.टी.आर.-4 (सुगम) अनिवार्य नहीं है। यह निर्धारिती द्वारा अपने विकल्प पर उपयोग किया जाने वाला एक सरल विवरणी फॉर्म है, यदि वह प्रकल्पित आधार पर कारोबार और व्यवसाय से लाभ और अभिलाभ की घोषणा करने के लिए धारा 44AD, 44ADA या 44AE के तहत पात्र है तो।

    लागू होने वाले फॉर्म

    1.फॉर्म 15H - कर की कटौती के बिना कुछ प्राप्तियों का दावा करने वाले व्यक्ति (जो 60 वर्ष या उससे अधिक आयु का है) द्वारा की जाने वाली घोषणा

    के द्वारा प्रस्तुत फॉर्म में प्रदान किया गया ब्यौरा

    एक निवासी व्यक्ति, 60 या अधिक आयु का, ब्याज आय पर टी.डी.एस. की कटौती न करने के लिए, बैंक को लिखित में निवेदन कर सकता है वित्तीय वर्ष के लिए अनुमानित आय

    2. फॉर्म 12BB - कर की कटौती के लिए कर्मचारी द्वारा किए गये दावों की विशिष्टियां (धारा 192 के तहत)

    द्वारा उपबंध की गई फॉर्म में प्रदान किया गया ब्यौरा

    अपने नियोक्ता(ओं) के लिए कर्मचारी स्रोत पर कटौती किए जाने वाले कर (टी.डी.एस.) की गणना के प्रयोजन के लिए एच.आर.ए., एल.टी.सी., उधार ली गई पूँजी पर ब्याज की कटौती, कर बचत के दावों/कटौतियों के साक्ष्य या दस्तावेज़

    3. फ़ॉर्म 16 - वेतन में स्रोत पर कर कटौती का ब्यौरा (आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 203 के तहत प्रमाणपत्र)

    द्वारा उपबंध की गई फॉर्म में प्रदान किया गया ब्यौरा

    अपने नियोक्ता(ओं) के लिए कर्मचारी देय कर / प्रतीदाय की गणना के उद्देश्य से वेतन भुगतान, स्रोत पर कटौती / छूट और कर कटौती की गणना के उद्देश्य से।

    4. फॉर्म 16A – वेतन के अलावा टी.डी.एस. के लिए आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 203 के तहत का प्रमाण पत्र

    द्वारा उपबंध की गई फॉर्म में प्रदान किया गया ब्यौरा

    कटौतीकर्ता से डिडक्टर फ़ॉर्म 16A स्रोत पर कर कटौती (टी.डी.एस.), त्रैमासिक तौर पर जारी किया जाने वाला एक प्रमाणपत्र है जो टी.डी.एस. की राशि, भुगतानों की प्रकृति और आयकर विभाग के पास जमा किए गए टी.डी.एस. भुगतान को दर्शाता है।

    स्रोत : www.incometax.gov.in

    वर्तमान में कर मुक्त आय की सीमा क्या है?

    वर्तमान में कर मुक्त आय की सीमा क्या है?

    Home > Hindi > कक्षा 7 > Maths > Chapter > वाणिज्य गणित >

    वर्तमान में कर मुक्त आय की सीम...

    वर्तमान में कर मुक्त आय की सीमा क्या है?

    Updated On: 27-06-2022

    00 : 30

    UPLOAD PHOTO AND GET THE ANSWER NOW!

    उत्तर

    Step by step solution by experts to help you in doubt clearance & scoring excellent marks in exams.

    Transcript

    हेलो हमको प्रश्न दिया है कि वर्तमान में कर मुक्त आय की सीमा क्या है तो सबसे पहले समझते ही कर मुक्त आय क्या होती कि आपकी आय अगर उतनी आज तक रहेगी तो उसने आपको सरकार को कर नहीं देना पड़ेगा ट्रैक कर मुक्त आय का मतलब यह था देखो कर वक्त है इसको अपने स्तर से निकाले कर मुक्त आय का तो करते मुक्त आए वह कर नहीं लगेगा कर से मुक्त कर मुक्त आय का मतलब आप की कितनी आय की सीमा क्या है मतलब कितनी आई है जिस पर क्या पी टैक्स नहीं देना पड़ेगा अगर आपकी कुछ नहीं आई है तो तो भी वह है 250000

    तो अभी अगर आपकी आयु डायलॉग रुपए है तो उससे आपको टैक्स नहीं देना पड़ेगा मतलब आपको पोस्ट करते मुक्त हो आप तो यह हो जाएगा कितने रुपए तुम्हारा उतर जाएगा ₹250000

    संबंधित वीडियो

    306954403 1.8 K 4.0 K 2:03

    वृत्त की स्पर्श रेखा व त्रिज्या में क्या सम्बन्ध होता है ?

    320058831 0 9.6 K 6:14

    यह ज्ञात है की महाविद्यालय के छात्रों में से 60 % छात्रावास में रहते है और 40 % छात्रावास में नहीं रहते है । पूर्ववर्ती वर्ष से परिणाम सूचित करते है की छात्रावास में रहने वाले छात्रों में से30 % छात्रों में से 20 % छात्रों ने A ग्रेड लिए। वर्ष के अंत में महाविद्यालय के एक छात्र को यादृच्छया चुना गया और पाया गया की उसे A ग्रेड मिला है । इस बात की क्या प्रायिकता है की वह छात्रावास में रहने वाला है ?

    306960269 1.9 K 9.3 K 4:40

    रेखिक प्रोग्रामन की आहार सम्बन्धी समस्याएं क्या होती है ?

    306960267 700 7.1 K 4:28

    रेखिक प्रोग्रामन की उत्पादन सम्बन्धी समस्याएं क्या है ?

    306960271 79 500 2:27

    रेखिक प्रोग्रामन की परिवहन सम्बन्धी समस्याएं क्या है ?

    408026787 0 8.2 K 4:57

    तथाकथित त्रिभुजीय संख्याएँ

    लीजिये :

    T n Tn

    बिन्दुओ का विन्यास इस प्रकार किया गया है की इनसे एक त्रिभुज बनता है । यहाँ

    T 1 =1, T 2 =3, T 3 =6, T 4 =10

    T1=1,T2=3,T3=6,T4=10

    आदि आदि। क्या आप अनुमान लगा सकते है की

    क्या है।

    T 5 T5

    के बारे में आप क्या कह सकते है ?

    T 6 T6

    के बारे में आप क्या कह सकते है ?

    T n Tn

    T 8 T8

    का एक कंजेक्चर दीजिये।

    Show More Comments

    Add a public comment...

    Follow Us:

    Popular Chapters by Class:

    Class 6 Algebra

    Basic Geometrical Ideas

    Data Handling Decimals Fractions Class 7

    Algebraic Expressions

    Comparing Quantities

    Congruence of Triangles

    Data Handling

    Exponents and Powers

    Class 8

    Algebraic Expressions and Identities

    Comparing Quantities

    Cubes and Cube Roots

    Data Handling

    Direct and Inverse Proportions

    Class 9

    Areas of Parallelograms and Triangles

    Circles Coordinate Geometry Herons Formula

    Introduction to Euclids Geometry

    Class 10

    Areas Related to Circles

    Arithmetic Progressions

    Circles Coordinate Geometry

    Introduction to Trigonometry

    Class 11 Binomial Theorem

    Complex Numbers and Quadratic Equations

    Conic Sections

    Introduction to Three Dimensional Geometry

    Limits and Derivatives

    Class 12

    Application of Derivatives

    Application of Integrals

    Continuity and Differentiability

    Determinants

    Differential Equations

    Privacy Policy

    Terms And Conditions

    Disclosure Policy Contact Us

    स्रोत : www.doubtnut.com

    Income Tax slab change latest Updates hindi: Income Tax Slab Latest News Updates In Hindi : इनकम टैक्स के स्लैब के बारे में जानें सब कुछ

    Income Tax Updates: भारत में नौकरी, कारोबार या पेशे से आमदनी वाले हर व्यक्ति के लिए इनकम टैक्स चुकाना जरूरी है. इस बार आयकर रिटर्न फाइल करने की अंतिम तिथि 31 जुलाई तय की गई है. ऐसे में टैक्स की दरों में क्या बदलाव हुए हैं इस बारे में जानना जरूरी है.

    Economic Times Hindi

    wealth tax

    here-you-will-know-everything-about-income-tax-slab

    Income Tax Slab: इनकम टैक्स स्लैब के बारे में जानें हर जरूरी बात, कितनी आय पर देना है कितना टैक्स

    Produced by Amit Tyagi | ET Online | Updated: 27 Jul 2022, 12:09 pm

    Income Tax Updates: भारत में नौकरी, कारोबार या पेशे से आमदनी वाले हर व्यक्ति के लिए इनकम टैक्स चुकाना जरूरी है. इस बार आयकर रिटर्न फाइल करने की अंतिम तिथि 31 जुलाई तय की गई है. ऐसे में टैक्स की दरों में क्या बदलाव हुए हैं इस बारे में जानना जरूरी है.

    Income Tax Slab: इनकम टैक्स स्लैब के बारे में जानें हर जरूरी बात, कितनी आय पर देना है कितना टैक्स

    नई दिल्ली

    Income Tax News Updates: फाइनेंशियल ईयर 2022-23 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न भरने की आखिरी तारीख 31 जुलाई 2022 तय की गई है. इस डेडलाइन को खत्म होने बस कुछ ही दिन शेष बचे हैं. वित्त मंत्रालय ने इस बार इनकम टैक्स की दरों में बड़ा बदलाव करते हुए मध्य आय वर्ग को बड़ी राहत दी गई है. हालांकि, यह ध्यान रखना होगा कि आयकर की नई दरों का फायदा आपको तभी मिलेगा, जब आप किसी तरह के डिडक्शन और टैक्स छूट का फायदा नहीं लेंगे. जो करदाता डिडक्शन और टैक्स छूट का लाभ चाहते हैं वे टैक्स की पुरानी व्यवस्था में बने रह सकते हैं. आइए जानते हैं टैक्स की दरों में क्या बदलाव हुआ है.

    इतनी आय पर टैक्स दर में कोई बदलाव नहीं

    2.5 लाख रुपये की आय पर टैक्स नहीं लगेगा. यह छूट पहले से थी. इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है. 2.5 लाख रुपये से 5 लाख रुपये तक की आय पर भी पहले की तरह 5 फीसदी टैक्स लगेगा. 5 लाख रुपये से ज्यादा आय वाले लोगों को बड़ी राहत म‍िली है.

    5 लाख से अधिक आय पर घटाई गई टैक्स दर

    अब 5 लाख रुपये से 7.5 लाख रुपये की आय पर 10 फीसदी टैक्स लगेगा. 7.5 लाख रुपये से 10 रुपये की आय पर अब 15 फीसदी टैक्स लगेगा. 10 लाख से 12.5 लाख रुपये की आय पर अब 20 फीसदी टैक्स लगेगा. 12.5 लाख रुपये से 15 लाख रुपये की आय पर अब 25 फीसदी टैक्स लगेगा. 15 लाख रुपये से ज्यादा आय वालों पर पहले की तरह 30 फीसदी टैक्स लगेगा.

    आयकर की नई और पुरानी दरें

    आय नई दर पुरानी दर

    2.5 लाख रुपये तक शून्य शून्य

    2.5 लाख रुपये से 5 लाख रुपये 5 फीसदी 5 फीसदी

    5 लाख रुपये से 7.5 लाख रुपये 10 फीसदी 20 फीसदी

    7.5 लाख रुपये से 10 लाख रुपये 15 फीसदी 20 फीसदी

    10 लाख से 12.5 लाख रुपये 20 फीसदी 30 फीसदी

    12.5 लाख 15 लाख रुपये 25 फीसदी 30 फीसदी

    15 लाख रुपये से ज्यादा 30 फीसदी 30 फीसदी

    आयकर रिटर्न भरने के बाद अगर आप पर टैक्स देनदारी बनती है तो आपको केंद्र सरकार को कर चुकाना पड़ता है. अगर आप इनकम टैक्स रिटर्न (आईटीआर) खुद भर रहे हैं तो आपको यह पता होना चाहिए कि कितनी सालाना आमदनी पर सरकार कितना टैक्स लेती है.

    भारत में नौकरी, कारोबार या पेशे से आमदनी वाले हर व्यक्ति के लिए इनकम टैक्स चुकाना जरूरी है. इसके लिए शर्त यह है कि आपकी आमदनी टैक्स छूट की आम सीमा 2.5 लाख रुपये से अधिक हो.

    इस मामले में राहत सिर्फ उन्हीं लोगों को मिली हुई है जिनकी कमाई बेसिक छूट की सीमा से कम है. आइये टैक्स छूट या टैक्स देनदारी के लिए सरकार द्वारा निर्धारित स्लैब के बारे में जानते हैं.

    1.5 लाख के निवेश पर टैक्स छूट

    अगर आप सेक्शन 80सी के तहत टैक्स बचत वाले निवेश विकल्पों में पैसे लगाते हैं तो इसके जरिये 1.5 लाख रुपये तक के निवेश पर टैक्स छूट हासिल कर सकते हैं.

    नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस), स्वैच्छिक प्रोविडेंट फंड (वीपीएफ) और इनकम टैक्स कानून के सेक्शन 80डी के साथ सेक्शन 24 के हिसाब से भी कुछ खर्च पर आप अलग से टैक्स बचा सकते हैं.

    किसी व्यक्ति की कमाई पर इनकम टैक्स चरणबद्ध तरीके से लगता है. जैसे-जैसे आपकी कमाई बढ़ती जाएगी वैसे-वैसे टैक्स का रेट भी ज्यादा होता जाएगा. वास्तव में इनकम स्लैब के हिसाब से टैक्स की दरें तय की जाती है. सरकार हर साल केंद्रीय बजट में इनकम टैक्स स्लैब रेट की समीक्षा करती है.

    पहला स्लैब 5 फीसदी का

    करयोग्य आमदनी अगर 2.5 लाख से पांच लाख रुपये के बीच है तो इस पर 5% टैक्स चुकाना पड़ेगा. यह ध्यान रखें कि कुल आमदनी में से टैक्स बचत के लिए किये गए निवेश एवं खर्च आदि पर टैक्स लाभ वाली रकम घटाने के बाद कर योग्य आमदनी निकाली जाती है.

    इनकम टैक्स का दूसरा स्लैब 20 फीसदी का

    इसी तर्ज पर पांच से दस लाख रुपये की आमदनी पर आपको इनकम टैक्स 20% की दर से चुकाना पड़ता था.

    तीसरा स्लैब 30 फीसदी का

    आम करदाता के लिए तीसरा इनकम टैक्स स्लैब 30% का था. इसके लिए आपकी सालाना करयोग्य आमदनी 10 लाख रुपये से अधिक होनी चाहिए.

    इसे भी पढ़ें: जानें किसके लिए आयकर रिटर्न भरना है जरूरी?सीनियर सिटीजन के मामले में टैक्स की दरें अलग हैं.

    एक आम भारतीय वरिष्ठ नागरिक के लिए 3 लाख रुपये तक की करयोग्य आमदनी टैक्स फ्री है. करयोग्य आमदनी अगर 3 लाख से पांच लाख रुपये के बीच है तो इस पर 5% टैक्स चुकाना पड़ेगा.

    सीनियर सिटीजन के लिए दूसरा टैक्स स्लैब

    स्रोत : hindi.economictimes.com

    Do you want to see answer or more ?
    Mohammed 7 day ago
    4

    Guys, does anyone know the answer?

    Click For Answer