if you want to remove an article from website contact us from top.

    1881 mein kis rajvansh ko fir se mysore ke raj singhasan par sthapit kiya gaya tha

    Mohammed

    Guys, does anyone know the answer?

    get 1881 mein kis rajvansh ko fir se mysore ke raj singhasan par sthapit kiya gaya tha from screen.

    ओडेयर राजवंश

    आम तौर पर हम दुनिया को सर्व मानव ज्ञान का योग बनाने के लिए आमंत्रित करते हैं। अब, हम दुनिया को सर्व मानव ज्ञान की ध्वनि बनाने के लिए आमंत्रित कर रहे हैं।

    [अनुवाद प्रक्रिया में हमारी मदद करें!]

    ओडेयर राजवंश

    मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

    नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

    मैसूर ओडेयर राजवंश (ವೊಡೆಯರು)

    पदस्थ

    यदुवीर कृष्णदत्त चामराज ओडियर

    28 मई 2015 से विवरण

    संबोधन शैली {{{महामहिम/महामहिमा}}} महिमा

    प्रथम एकाधिदारुक यदुराय ओडियर

    स्थापना 1399

    ओडियर राजवंश भारत का एक राजवंश है जो 1399 से 1761 और पुनः 1799 से 1947 मैसूर राज्य के शासक थे। भारत की स्वतंत्रता के पश्चात इस राज्य को भारत में मिला लिया गया।

    इतिहास कहता है कि वे हिमालय के निकट उत्तरी क्षेत्र से कर्नाटक आए थे और वहां की प्राकृतिक सुंदरता को देखकर उनका निवास स्थान बना था। राजवंश की स्थापना 1399 में यदुराया वोडेयार ने की थी। उन्होंने 1423 तक विजयनगर साम्राज्य के तहत मैसूर पर शासन किया। यदुराया वोडेयार के बाद, मैसूर राज्य वाडियार शासकों द्वारा सफल रहा। इस प्रारंभिक अवधि में राज्य काफी छोटा रहा और विजयनगर साम्राज्य का एक हिस्सा था। 1565 में विजयनगर साम्राज्य के पतन के बाद, मैसूर साम्राज्य स्वतंत्र हो गया और 1799 तक ऐसा ही रहा।

    कृष्णराज वाडियार III (1799-1868) के शासनकाल के दौरान, यह क्षेत्र ब्रिटिश साम्राज्य के नियंत्रण में आ गया। उनके उत्तराधिकारियों ने उनके शाही नाम की अंग्रेजी वर्तनी को वाडियार में बदल दिया और बहादुर की उपाधि ली। राजवंश के अंतिम दो राजाओं, कृष्णराज वाडियार चतुर्थ और जयचामाराजेंद्र वाडियार ने भी ब्रिटिश साम्राज्य के सबसे उत्कृष्ट आदेश के ब्रिटिश सजावट नाइट ग्रैंड क्रॉस को स्वीकार किया।

    ओडेयर वंश के शासक[संपादित करें]

    देव राय (1399 - 1423)

    हिरिय बॆट्टद चामराज ऒडॆयर् (1423 - 1459)

    तिम्मराज ऒडॆयर् (1459 - 1479)

    हिरिय चामराज ऒडॆयर् (1479 - 1513)

    हिरिय बॆट्टद चामराज ऒडॆयर् (इम्मडि) (1513 - 1553)

    बोळ चामराज ऒडॆयर् (1572 - 1576)

    बॆट्टद चामराज ऒडॆयर् (मुम्मडि) (1576 - 1578)

    राज ऒडॆयर् (1578 - 1617)

    चामराज ऒडॆयर् (1617 - 1637).

    इम्मडि राज ऒडॆयर् (1637 - 1638)

    रणधीर कंठीरव नरसराज ऒडॆयर् (1638 - 1659)

    दॊड्ड देवराज ऒडॆयर् (1659 - 1673)

    चिक्क देवराज ऒडॆयर् (1673 - 1704)

    कंठीरव नरसराज ऒडॆयर् (1704 - 1714)

    दॊड्ड कृष्नराज ऒडॆयर् (1732 - 1734)

    इम्मडि कृष्णराज ऒडॆयर् (1734 - 1766)

    बॆट्टद चामराज ऒडॆयर् (1770 - 1776)

    खासा चामराज ऒडॆयर् (1766 - 1796)

    मुम्मडि कृष्णराज ऒडॆयरु (1799 - 1868)

    मुम्मडि चामराज ऒडॆयर् (1868 - 1895)

    नाल्वडि कृष्णराज ऒडॆयरु (1895 - 1940)

    जयचामराज ऒडॆयर् (1940 - 1947)

    चित्र दीर्घा[संपादित करें]

    मैसूर राजमहल , जो परम्परा के अनुसार ओडियर राजाओं का सिंहासन रहा है।

    चामराजेन्द्र ओडियर दशम

    Chamarajendra Wadiyar X with his children

    Marriage of H.H Sri Krishnaraja Wadiyar IV and Rana Prathap Kumari of Kathiawar

    Maharani Vani Vilasa with grandson Jayachamarajendra Wadiyar

    Jayachamrajendra Wadiyar with Elizabeth II

    श्रीकान्त ओडियर

    Maharaja Chamaraja X with two Princes in 1887

    सन्दर्भ[संपादित करें]

    श्रेणी: भारत के राजवंश

    स्रोत : hi.wikipedia.org

    हिंदी

    After the decline of Vijayanagar Empire, Mysore became independent state under the Hindu Wodeyar Dynasty in AD 1565.

    मैसूर राज्य का इतिहास

    विजयनगर साम्राज्य के पतन के बाद, 1565 ई। में हिन्दू वोडियार वंश द्वारा मैसूर राज्य को स्वतंत्र राज्य घोषित कर दिया गया। वोडियार वंश के अंतिम शासक चिक्का कृष्णराज द्वितीय के शासनकाल में वास्तविक सत्ता देवराज(दलवाई या सेनापति) और नंजराज (सर्वाधिकारी या वित्त एवं राजस्व नियंत्रक) के हाथों में आ गयी थी।ये क्षेत्र पेशवा और निज़ाम के बीच विवाद का विषय बन गया था।1761 ई. में हैदर अली ,जिसने अपने जीवन की शुरुआत एक सैनिक के रूप में की थी,ने मैसूर के राजवंश को हटाकर राज्य पर अपना कब्ज़ा कायम कर लिया।

    Shakeel Anwar Updated: Nov 9, 2018 12:03 IST

    The History of Mysore State HN

    विजयनगर साम्राज्य के पतन के बाद, 1565 ई। में हिन्दू वोडियार वंश द्वारा मैसूर राज्य को स्वतंत्र राज्य घोषित कर दिया गया। वोडियार वंश के अंतिम शासक चिक्का कृष्णराज द्वितीय के शासनकाल में वास्तविक सत्ता देवराज (दलवाई या सेनापति) और नंजराज (सर्वाधिकारी या वित्त एवं राजस्व नियंत्रक) के हाथों में आ गयी थी।ये क्षेत्र पेशवा और निज़ाम के बीच विवाद का विषय बन गया था। नंजराज द्वितीय कर्नाटक युद्ध में अंग्रेजों के साथ मिल गया और त्रिचुरापल्ली(तमिलनाडु) पर कब्ज़ा कर लिया।

    1761 ई. में हैदर अली ,जिसने अपने जीवन की शुरुआत एक सैनिक के रूप में की थी,ने मैसूर के राजवंश को हटाकर  राज्य पर अपना कब्ज़ा कायम कर लिया। हैदर अली(1760-1782) ने मैसूर राज्य की सत्ता पर कब्ज़ा कर लिया ,जो  दो वोडियार भाइयों –देवराज और नंजराज द्वारा शासित था। उसे अपने राज्य की स्वतंत्रता को कायम रखने के लिए निज़ाम और मराठों से भी लड़ना पड़ा।उसने निज़ाम और फ्रांसीसियों के साथ मिलकर 1767-1769 के मध्य हुए प्रथम आंग्ल –मैसूर युद्ध मे अंग्रेजों को करारी शिकस्त दी और अप्रैल 1769 में उन्हें मद्रास की संधि के रूप में अपनी शर्तें मानने पर मजबूर कर दिया। 1780-1784 ई के मध्य हुए द्वितीय आंग्ल-मैसूर युद्ध में भी उसने निज़ाम और मराठों के साथ मिलकर 1782 ई में  अंग्रेजों को हराया लेकिन युद्ध में घायल हो जाने के कारण 1782 ई में उसकी मृत्यु हो गयी।

    जानें भारत में अंग्रेजों की सफलता के क्या-क्या कारण थे?

    टीपू सुल्तान (1782-1799 ई), हैदर अली का पुत्र था और उसके बाद मैसूर राज्य की सत्ता संभाली ,जिसने वीरतापूर्वक अंग्रेजों से युद्ध लड़कर अपने राज्य की रक्षा की। टीपू सुल्तान पहला शासक था जिसने पश्चिमी पद्धतियों को अपने प्रशासन में लागू करने का प्रयास किया। उसने सैन्य प्रशिक्षण में आधुनिक तकनीकों का प्रयोग किया और आधुनिक हथियारों के उत्पादन के लिए एक कारखाना भी स्थापित किया । उसने अंग्रेजों और निजाम व मराठों की संयुक्त सेना के विरुद्ध तृतीय आंग्ल-मैसूर युद्ध लड़ा  अंतत; उसे श्रीरंगपट्टनम की संधि  करनी पड़ी और संधि की शर्तों के तहत टीपू को अपना आधा राज्य अंग्रेजों और उनके सहयोगियों को देना पड़ा। चतुर्थ आंग्ल-मैसूर युद्ध (1799) के दौरान लड़ते हुए उसकी मृत्यु हो गयी।टीपू सुल्तान से जुडी महत्वपूर्ण जानकारियाँ

    1.  वह श्रंगेरी के जगतगुरु शंकराचार्य का महान प्रशंसक था और उसने मराठों द्वारा नष्ट की गयी देवी शारदा  की मूर्ति के निर्माण के लिए उन्हें धन प्रदान किया।

    2.  उसकी आत्मकथा का नाम तारीख-ए-खुदाई  था।

    3.  उसने फ़ताहुल मुजाहिदीन नाम से एक सैन्य पुस्तक भी लिखी जिसमे राकेट साइंस और राकेट ब्रिगेड से सम्बंधित जानकारी दी गयी है।

    4.  उसने अपने पिता हैदर अली द्वारा प्रारंभ की गयी लाल बाग परियोजना (बैंगलोर) को पूरा किया और कावेरी नदी पर कृष्णराज सागर बांध का निर्माण कराया।

    आधुनिक भारत का इतिहास: सम्पूर्ण अध्ययन सामग्री

    15 most beautiful women in the world

    BuzznFun.com | Sponsored

    The Oldest Stars Who Are Still Living In 2022

    Direct Healthy | Sponsored

    Abd İçin Son Günler Green Card Çekilişi Kayit!

    Global USA | Sponsored

    Online Job in USA from Turkey. Salaries Might Surprise You!

    Online Jobs USA l Search Ads

    | Sponsored

    Citroen Berlingo Hayallerinize Yer Açın

    Citroën | Sponsored

    Peugeot'nuz İlk Günkü Gibi

    Peugeot | Sponsored

    The Secret Behind Babbel: An Expert Explains Why This App Is the Best for Learning a New Language

    Babbel | Sponsored

    Exotic Bra and Panty Sets to Boost Your Confidence (Take a Look)

    Bra and Panty Sets | Sponsored

    Aile, kum, deniz, güneş… Hakettiğiniz tatil Gloria'da

    Gloria Hotels & Resorts

    | Sponsored

    Axess'ten yılda 21.600 TL'ye varan chip-para!

    Akbank | Sponsored

    Get the latest General Knowledge and Current Affairs from all over India and world for all competitive exams.

    Related Categories

    आधुनिक भारत

    क्षेत्रीय राज्यों का उदय और यूरोपीय शक्ति

    स्रोत : www.jagranjosh.com

    Do you want to see answer or more ?
    Mohammed 2 month ago
    4

    Guys, does anyone know the answer?

    Click For Answer