if you want to remove an article from website contact us from top.

    bhartiya rashtriya calendar ka pahla mahina kaun sa hai

    Mohammed

    Guys, does anyone know the answer?

    get bhartiya rashtriya calendar ka pahla mahina kaun sa hai from screen.

    भारतीय राष्ट्रीय पंचांग

    भारतीय राष्ट्रीय पंचांग

    मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

    नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

    भारतीय राष्ट्रीय पंचांग या 'भारत का राष्ट्रीय कैलेंडर' (संक्षिप्त नाम - भारांग ) भारत में उपयोग में आने वाला सरकारी सिविल कैलेंडर है। यह शक संवत पर आधारित है और ग्रेगोरियन कैलेंडर के साथ-साथ 22 मार्च 1957 , (भारांग: 1 चैत्र 1879) से अपनाया गया। भारत मे यह भारत का राजपत्र, आकाशवाणी द्वारा प्रसारित समाचार और भारत सरकार द्वारा जारी संचार विज्ञप्तियों मे ग्रेगोरियन कैलेंडर के साथ प्रयोग किया जाता है।

    चैत्र भारतीय राष्ट्रीय पंचांग का प्रथम माह होता है। राष्ट्रीय कैलेंडर की तिथियाँ ग्रेगोरियन कैलेंडर की तिथियों से स्थायी रूप से मिलती-जुलती हैं। चन्द्रमा की कला (घटने व बढ़ने) के अनुसार माह में दिनों की संख्या निर्धारित होती है |

    अनुक्रम

    1 कैलेंडर का प्रारूप

    2 अंगीकरण 3 राष्ट्रीय पंचांग 4 इन्हें भी देखें 5 सन्दर्भ 6 बाहरी कड़ियाँ

    कैलेंडर का प्रारूप[संपादित करें]

    माह देशज नाम अवधि शुरुआत की तिथि (ग्रेगोरियन)

    1 चैत्र चैत 30/31 मार्च 22*

    2 वैशाख बैसाख 31 अप्रेल 21

    3 ज्येष्ठ जेठ / हाड़ 31 मई 22

    4 आषाढ़ असाढ़ 31 जून 22

    5 श्रावण सावन 31 जुलाई 23

    6 भाद्रपद भादों 31 अगस्त 23

    7 आश्विन आसिन 30 सितम्बर 23

    8 कार्तिक कार्तिक 30 अक्टूबर 23

    9 अग्रहायण/मार्गशीर्ष अगहन 30 नवम्बर 22

    10 पौष पूस 30 दिसम्बर 22

    11 माघ माघ 30 जनवरी 21

    12 फाल्गुन फागुन 30 फरवरी 20

    अधिवर्ष में, चैत्र मे 31 दिन होते हैं और इसकी शुरुआत 21 मार्च को होती है। वर्ष की पहली छमाही के सभी महीने 31 दिन के होते है, जिसका कारण इस समय कांतिवृत्त में सूरज की धीमी गति है।

    महीनों के नाम पुराने, हिन्दू चन्द्र-सौर पंचांग से लिए गये हैं इसलिए वर्तनी भिन्न रूपों में मौजूद है और कौन सी तिथि किस कैलेंडर से संबंधित है इसके बारे मे भ्रम बना रहता है।

    शक् युग, का पहला वर्ष सामान्य युग के 78 वें वर्ष से शुरु होता है, अधिवर्ष निर्धारित करने के शक् वर्ष मे 78 जोड़ दें- यदि ग्रेगोरियन कैलेण्डर में परिणाम एक अधिवर्ष है, तो शक् वर्ष भी एक अधिवर्ष ही होगा।

    अंगीकरण[संपादित करें]

    इस कैलेंडर को कैलेंडर सुधार समिति द्वारा 1957 में, भारतीय पंचांग और समुद्री पंचांग के भाग के रूप मे प्रस्तुत किया गया। इसमें अन्य खगोलीय आँकड़ों के साथ काल और सूत्र भी थे जिनके आधार पर हिन्दू धार्मिक पंचांग तैयार किया जा सकता था, यह सब परेशानी इसको एक समरसता प्रदान करने की थी। इस प्रयास के बावजूद, पुराने स्रोतों पर आधारित स्थानीय रूपान्तर जैसे सूर्य सिद्धान्त अभी भी मौजूद हैं।

    इसका आधिकारिक उपयोग 1 चैत्र, 1879 शक् युग, या 22 मार्च 1957 में आरम्भ किया था। हालाँकि, सरकारी अधिकारियों ने इस कैलेंडर के नये साल के बजाय धार्मिक कैलेंडरों के नये साल को प्राथमिकता देते प्रतीत होते हैं।[1].

    राष्ट्रीय पंचांग[संपादित करें]

    सुधार समिति ने नामक एक धार्मिक कैलेंडर को भी औपचारिक रूप दिया। यह, अन्य कई क्षेत्रीय चन्द्र-सौर पंचांग पर आधारित पंचांगों की तरह 10 वीं शताब्दी के सूर्य सिद्धांत पर आधारित था।[]

    शब्द पंचांग संस्कृत के (पाँच+अंग) से लिया गया है, जो कि पंचांग के पाँच अंगों का द्योतक है: चंद्र दिन,चांद्र मास, अर्ध दिन, सूर्य और चंद्रमा के कोण और सौर दिन।[]

    इन्हें भी देखें[संपादित करें]

    हिन्दू पंचांग शालिवाहन युग मेघनाद साहा

    सन्दर्भ[संपादित करें]

    by E.G. Richards (ISBN 0-19-282065-7), 1998, pp. 184–185.

    बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

    भारतीय कैलेंडर की विकास यात्रा (गुणाकर मुले)

    लुप्त होती राष्ट्रीय पंचांग की पहचान (प्रमोद भार्गव)

    खगोल विज्ञान केन्द्र

    भारत का राष्ट्रीय संवत: शक संवत

    Calendars and their History (by L.E. Doggett)

    Indian Calendars (by Leow Choon Lian, pdf, 1.22mb)

    Positional astronomy in India

    India Image website

    Hindu Panchang for the world -- Calculated for different cities

    Why Can't I use Indian Panchangam abroad (Difference in festival celebration dates)

    भारतीय राष्ट्रिय संवत - शक संवत (सुशील भाटी) https://web.archive.org/web/20161106134501/http://janitihas.blogspot.in/2012/10/bhartiya-rastriya-samvat-shaka-samvat.html

    [छुपाएँ] देवासं कैलेंडर (सूची) सबसे अधिक प्रयुक्त

    Astronomical • Gregorian• Islamic • ISO

    Calendar types: Lunisolar • Solar • Lunar

    विशिष्ठ रूप मे प्रयुक्त

    Akan • Assyrian • Armenian • Attic • (Tonalpohualli – Xiuhpohualli) • Babylonian • Bahá'í • Bengali • Berber • Bikram Samwat • Buddhist • Burmese • Byzantine •Celtic • Chinese • Coptic • Egyptian • Ethiopian • French Republican • Germanic • Hebrew • Hellenic • Hindu • Indian • Iranian • Irish • Japanese • Javanese • Juche • Julian • Korean • Kurdish • Lithuanian • Malayalam • (Tzolk'in – Haab') • Minguo • Nanakshahi • Nepal Sambat • Pawukon • Pentecontad • Rapa Nui • Roman • Rumi • Soviet • Tamil • (Lunar – Solar) • Tibetan • Vietnamese• Xhosa • Yoruba • Zoroastrian

    Calendar types: Runic • (Long Count – Calendar round)

    Christian variants: Julian calendar • Calendar of saints • Eastern Orthodox liturgical calendar • Liturgical year

    बिरले ही प्रयुक्त

    Darian calendar • Discordian calendar

    प्रकार और अनुप्रयोग

    Perpetual calendar • Wall calendar • Economic calendar

    श्रेणियाँ: Calendarsपंचांग

    स्रोत : hi.wikipedia.org

    Know About National Calendar of India which is different from january calendar Read Here Many Interesting factors

    National Calendar: आज घरों में कैलेंडर बदल जाएगा और कल से शुरू होने वाले नए साल का कैलेंडर उसकी जगह ले लेगा. लेकिन, क्या आप जानते हैं कि भारत का आधिकारिक कैलेंडर कौनसा है...

    हिंदी न्यूज़ » नॉलेज की ताजा खबरें » भारत के नेशनल कैलेंडर को कितना जानते हैं आप? जिसमें 1 जनवरी से शुरू नहीं होता है साल

    भारत के नेशनल कैलेंडर को कितना जानते हैं आप? जिसमें 1 जनवरी से शुरू नहीं होता है साल

    भारत के नेशनल कैलेंडर को कितना जानते हैं आप? जिसमें 1 जनवरी से शुरू नहीं होता है साल National Calendar: आज घरों में कैलेंडर बदल जाएगा और कल से शुरू होने वाले नए साल का कैलेंडर उसकी जगह ले लेगा. लेकिन, क्या आप जानते हैं कि भारत का आधिकारिक कैलेंडर कौनसा है...

    भारत का आधिकारिक कैलेंडर शक संवत पर आधारित है.

    TV9 Bharatvarsh | Edited By: मोहित पारीक

    Updated on: Dec 31, 2021 | 8:31 AM

    आज साल 2021 का आखिरी दिन है. कल यानी शनिवार से नए साल का आगमन होने वाला है, जिसे लेकर लोगों ने अपने घर में कैलेंडर बदलना शुरू कर दिए हैं. अब 2021 के स्थान पर 2022 का कैलेंडर जगह लेने वाला है. लेकिन, क्या आप जानते हैं भारत का राष्ट्रीय कैलेंडर अलग है, जिसे हिंदू कैलेंडर भी कहा जाता है. भारत में साल 1957 में इसको आधिकारिक कैलेंडर के रूप में मान्यता मिली थी, जिसके बाद से हर साल ये कैलेंडर आता है.

    आपने भी इस कैलेंडर के बारे में सुना तो होगा, लेकिन आज समझने की कोशिश करते हैं कि इस कैलेंडर में क्या खास है. जानते हैं इस कैलेंडर से जुड़ी खास बातें, जो वाकई काफी दिलचस्प हैं…

    कौनसा है आधिकारिक कैलेंडर?

    भारत का राष्‍ट्रीय कैलेंडर शक संवत पर आधारित है. चैत्र इसका पहला महीना होता है और ग्रेगोरियन कैलेंडर के साथ साथ चलता है. वैसे इस साल की शुरुआत मार्च- अप्रैल में होती है, जब चैत्र का महीना आता है. न्यू ईयर के रूप में गुड़ी पाड़वा, नवरात्र जैसे पर्व मनाए जाते हैं. इसकी शुरुआत साल 1957 में की गई थी.

    कैसे बना आधिकारिक कैलेंडर?

    भारत सरकार ने नवंबर 1952 में प्रोफेसर मेघनाद साहा की अध्यक्षता में एक कैलेंडर रिफर्म कमेटी का गठन किया गया, जिनकी सिफारिशों पर एक राष्ट्रीय कैलेंडर बनाया जा सके. इस दौरान कमेटी ने सोलर कैलेंडर की सिफारिश की, जिससे उसे ग्रेगोरियन कैलेंडर तिथियों के साथ आधिकारिक उद्देश्यों के लिए उपयोग किया जाए. इसके साथ ही कमेटी ने कई और सिफारिश की, जिन्हें सरकार ने मान लिया. इसके बाद यह आधिकारिक कैलेंडर बना.

    कैसा है राष्ट्रीय पंचांग?

    वैसे तो भारत में दो तरह के क्षेत्रीय कैलेंडर का इस्तेमाल किया जाता है. एक है सौलर और दूसरा लूनी सोलर कैलेंडर है. भारत का नेशनल कैलेंडर खगोल विज्ञान केंद्र द्वारा तैयार किया गया है और यह सोलर कैलेंडर है. इसमें शक युग का उपयोग किया गया है. ऐसा ही ग्रेगोरियन कैलेंडर यानी जनवरी माह से शुरू होने वाला कैलेंडर है.

    यह पंचाग पूरे देश में मानक रुप से उपयोग किया जाता है और इसे सटीक कैंलेंड्रिक डेटा के रुप में इस्तेमाल किया जाता है. राष्ट्रीय पंचांग में शक युग साल का हर महीने की दिन की लंबाई निश्चित है. राष्ट्रीय पंचांग 1879 शक संवत् (1957-58 ईस्वी)से खगोल विज्ञान केंद्र द्वारा प्रकाशित किया जा रहा है.

    कैसे होते हैं महीने?

    इस कैलेंडर में भी 12 महीने होते हैं, जिसमें चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ, आषाढ़, श्रावण, भाद्रपद, आश्विन, कार्तिक, मार्गशीर्ष, पौष, माघ, फाल्गुन शामिल है. जैसे अंग्रेजी कैलेंडर में 30 दिन होते हैं, वैसे इसमें भी 30 दिन होते हैं, लेकिन इसमें दो पखवाड़े होते हैं और 15-15 दिन के दो पक्ष में विभाजित होते हैं, जिसमें सप्तमी, नवमी, दशमी जैसी तिथियां शामिल होती हैं.

    ये भी पढ़ें- जूते के लूप और फीतों पर लगे इन प्लास्टिक को क्या कहते हैं? बहुत कम जानते हैं सही जवाब

    आज की बड़ी खबरें

    आज की बड़ी खबरें Follow us on

    CalendarHindu CalendarNew Year Calendar

    आपके लिए

    इन राज्य में महिलाएं सबसे ज्यादा पति की हिंसा का शिकार

    कौन था मुल्ला-दो-प्याजा जो अकबर का नवरत्न बना और प्याज से क्या कनेक्शन था?

    यौन अपराधों से बच्चे कितना सुरक्षित: 43% मामलों में दोषी बरी हुए और करीबी ही बने ‘हैवान’

    पैकिंग से रिसायक्लिंग तक… कार्बन उत्सर्जन रोकने के लिए कंपनियां कितना बदलाव कर रहीं?

    Stories और देखें >

    इस रशियन राइफल से हुआ मूसेवाला का मर्डर

    गर्मी से राहत दिलाएंगे एयर कंडीशनर कपड़े

    ये है वो पौधा जिसके नाम पर प्रियंका ने रखा बेटी का नाम

    मेंटल हेल्थ से जुड़ी है रीढ़ की हड्डी की चोट

    स्रोत : www.tv9hindi.com

    [Solved] भारतीय राष्ट्रीय कैलेंडर का पहला महीना कौन स�

    सही उत्तर है चैत्र। Important Points शक संवत पर आधारित 22 मार्च 1957 से राष्ट्रीय कैलेंडर, में चैत्र पहला महीना और 365 दिनों का एक सा�

    Home General Knowledge Art and Culture

    Question

    Download Solution PDF

    भारतीय राष्ट्रीय कैलेंडर का पहला महीना कौन सा है?

    This question was previously asked in

    UPPSC RO/ARO General Studies Official Paper (Held on: 20 Sep 2020)

    Download PDF Attempt Online

    View all UPPSC RO ARO Papers >

    फाल्गुन माघ पौष चैत्र

    Answer (Detailed Solution Below)

    Option 4 : चैत्र Crack with

    India's Super Teachers

    FREE

    Demo Classes Available*

    Explore Supercoaching For FREE

    Free Tests

    View all Free tests >

    FREE

    UPPSC RO/ARO: Indian Polity 1

    40.3 K Users

    12 Questions 12 Marks 10 Mins

    Start Now

    Detailed Solution

    Download Solution PDF

    सही उत्तर है चैत्र

    Important Pointsशक संवत पर आधारित 22 मार्च 1957 से राष्ट्रीय कैलेंडर, में चैत्र पहला महीना और 365 दिनों का एक सामान्य वर्ष ग्रेगोरियन कैलेंडर के साथ निम्नलिखित आधिकारिक उद्देश्यों के लिए अपनाया गया था:

    भारत का राजपत्र।

    ऑल इंडिया रेडियो द्वारा प्रसारित समाचार।

    भारत सरकार द्वारा जारी किए गए कैलेंडर

    जनता के सदस्यों को संबोधित किया गया सरकारी संचार।

    राष्ट्रीय कैलेंडर की तिथियों में ग्रेगोरियन कैलेंडर की तारीखों के साथ एक स्थायी पत्राचार है, 1 चैत्र सामान्य रूप से 22 मार्च को और 21 मार्च को एक लीप वर्ष में होता है।

    महीनों के नाम: चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ, आषाढ़, श्रावण, भाद्र , अश्विन, कार्तिक,अग्रहन, पौष, माघ, फाल्गुन।​

    Download Solution PDF

    Share on Whatsapp

    Latest UPPSC RO ARO Updates

    Last updated on Sep 26, 2022

    UPPSC RO ARO Admit Card released for the Computer Typing Test. The typing test will be held between 11th to 14th October 2022. The UPPSC RO ARO recruitment was announced for 337 vacancies.

    India’s #1 Learning Platform

    Start Complete Exam Preparation

    Daily Live MasterClasses

    Practice Question Bank

    Mock Tests & Quizzes

    Get Started for Free

    Download App

    Trusted by 3.4 Crore+ Students

    ‹‹ Previous Ques Next Ques ››

    More Art and Culture Questions

    Q1. गंजीफा, चारभर, नार-छरी किसके प्रकार हैं?Q2. अटपटी, अमरशाही, उदहशाही और शिवशाही क्या हैं?Q3. 'सफेद मेमने' और 'पत्तों की बिरादरी' किस उपन्यासकार की रचनायें है?Q4. राज्य में उद्यमिता की भावना जागृत करने हेतु सरकार ने 19-20 अगस्त को 'राजस्थान डिजी फेस्ट 2022' का आयोजन किस शहर में किया?Q5. औदक दुर्ग से आपका अभिप्राय क्या है?Q6. बूंदी में 'कजली तीज' का त्योहार किस महीने में मनाया जाता है?Q7. स्त्रियों का आभूषण 'नेवरी' शरीर के किस भाग पर पहना जाता है?Q8. आनासागर का निर्माण किसने करवाया था?Q9. बूंदी के राजमहल में प्रसिद्ध 'चित्रशाला' का निर्माण ________के शासनकाल में हुआ।Q10. प्रसिद्ध महाकाव्य रामायण से सीता नामक चरित्र के जन्मस्थान पर किस कला विधा का नाम पड़ा है?

    स्रोत : testbook.com

    Do you want to see answer or more ?
    Mohammed 15 day ago
    4

    Guys, does anyone know the answer?

    Click For Answer