if you want to remove an article from website contact us from top.

    kawan sukaj kathin jag mahi chaupai in hindi

    Mohammed

    Guys, does anyone know the answer?

    get kawan sukaj kathin jag mahi chaupai in hindi from screen.

    कवन सो काज कठिन जग माहीं

    कवन सो काज कठिन जग माहीं

    भारत डिस्कवरी प्रस्तुति

    यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें

    कवन सो काज कठिन जग माहीं

    कवि गोस्वामी तुलसीदासमूल शीर्षक रामचरितमानसमुख्य पात्र राम, सीता, लक्ष्मण, हनुमान, रावण आदिप्रकाशक गीता प्रेस गोरखपुरशैली सोरठा, चौपाई, छन्द और दोहासंबंधित लेख दोहावली, कवितावली, गीतावली, विनय पत्रिका, हनुमान चालीसाकाण्ड किष्किंधा काण्ड

    चौपाई

    कवन सो काज कठिन जग माहीं। जो नहिं होइ तात तुम्ह पाहीं॥

    राम काज लगि तव अवतारा। सुनतहिं भयउ पर्बताकारा॥3॥

    भावार्थ

    जगत में कौन सा ऐसा कठिन काम है जो हे तात! तुमसे न हो सके। श्री राम जी के कार्य के लिए ही तो तुम्हारा अवतार हुआ है। यह सुनते ही हनुमान जी पर्वत के आकार के (अत्यंत विशालकाय) हो गए॥3॥

    कवन सो काज कठिन जग माहींचौपाई- मात्रिक सम छन्द का भेद है। प्राकृत तथा अपभ्रंश के 16 मात्रा के वर्णनात्मक छन्दों के आधार पर विकसित हिन्दी का सर्वप्रिय और अपना छन्द है। गोस्वामी तुलसीदास ने रामचरितमानस में चौपाई छन्द का बहुत अच्छा निर्वाह किया है। चौपाई में चार चरण होते हैं, प्रत्येक चरण में 16-16 मात्राएँ होती हैं तथा अन्त में गुरु होता है।पन्ने की प्रगति अवस्था

    आधार प्रारम्भिक माध्यमिक पूर्णता शोध

    टीका टिप्पणी और संदर्भ

    टीका टिप्पणी और संदर्भ संबंधित लेख

    देखें • वार्ता • बदलें

    तुलसीदास की प्रमुख रचनाएँ

    कवितावली · दोहावली -तुलसीदास · गीतावली · जानकी मंगल · सतसई · पार्वती मंगल · रामचरितमानस · विनय पत्रिका · रामाज्ञा प्रश्न · बरवै रामायण · हनुमान चालीसा · श्री रामायण जी की आरती · कृष्ण गीतावली · रामलला नहछू · वैराग्य संदीपनी

    देखें • वार्ता • बदलें रामचरितमानस

    बालकाण्ड‎

    मंगलाचरण   •   श्रीराम वन्दना   •   याज्ञवल्क्य-भारद्वाज संवाद   •   सती का मोह   •   शिव-पार्वती संवाद   •   नारद का अभिमान   •   मनु-शतरूपा का तप   •   भानुप्रताप की कथा   •   राम जन्म   •   विश्वामित्र की यज्ञ रक्षा   •   पुष्पवाटिका निरीक्षण   •   धनुष भंग   •   श्रीसीता-राम विवाह

    अयोध्या काण्ड‎

    मंगलाचरण   •   राम-राज्याभिषेक की तैयारी   •   श्रीसीता-राम संवाद   •   श्रीलक्ष्मण-सुमित्रा संवाद   •   वन-गमन   •   केवट का प्रेम   •   भरद्वाज संवाद   •   श्रीराम-वाल्मीकि-संवाद   •   चित्रकूट निवास   •   दशरथ-मरण   •   भरत-कौसल्या-संवाद   •   भरत का चित्रकूट के लिए प्रस्थान   •   भरत-भरद्वाज संवाद   •   राम-भरत मिलन   •   जनक जी का आगमन   •   श्रीराम-भरत संवाद   •   भरत जी की विदाई   •   नन्दिग्राम में निवास

    अरण्यकाण्ड‎

    मंगलाचरण   •   जयन्त की कुटिलता   •   श्रीसीता-अनसूया-मिलन   •   सुतीक्ष्णजी का प्रेम   •   पञ्चवटी-निवास   •   खर-दूषण-वध   •   मारीच-प्रसंग   •   सीता-हरण   •   शबरी पर कृपा

    किष्किंधा काण्ड

    मंगलाचरण   •   श्रीराम-हनुमान भेंट   •   बालि वध   •   सीताजी की खोज के लिये बंदरों का प्रस्थान   •   हनुमान-जाम्बवन्त संवाद

    सुंदरकाण्ड

    मंगलाचरण   •   लंका में प्रवेश   •   सीता-हनुमान संवाद   •   लंका-दहन   •   श्रीराम-हनुमान संवाद   •   लंका के लिये प्रस्थान   •   विभीषण की शरणागति   •   समुद्र पर कोप

    लंकाकाण्ड

    मंगलाचरण   •   सेतुबन्धु   •   अंगद-रावण संवाद   •   लक्ष्मण-मेघनाद युद्ध   •   श्रीराम-प्रलाप लीला   •   कुम्भकर्ण वध   •   मेघनाद वध   •   राम-रावन युद्ध   •   रावन वध   •   सीताजी की अग्नि-परीक्षा   •   अवध के लिये प्रस्थान

    उत्तरकाण्ड

    मंगलाचरण   •   भरत-हनुमान मिलन   •   भरत-मिलाप   •   रामराज्याभिषेक   •   श्रीराम जी का प्रजा को उपदेश   •   गरुड़-भुशुण्डि संवाद   •   काकभुशुण्डि-लोमश संवाद   •   ज्ञान भक्ति निरूपण

    श्रेणियाँ: टेम्पलेट कॉल में डुप्लिकेट तर्क का उपयोग करते हुए पन्नेप्रारम्भिक अवस्थापद्य साहित्यहिन्दू धर्म ग्रंथतुलसीदाससगुण भक्तिभक्ति साहित्यरामचरितमानसकिष्किंधा काण्डसाहित्य कोश

    स्रोत : bharatdiscovery.org

    कवन सो काज कठिन जग माहीं, जो नहिं होइ तात तुम पाहीं

    कवन सो काज कठिन जग माहीं, जो नहिं होइ तात तुम पाहीं | दमोह बुधवार को रामभक्त हनुमानजी का प्राकट्योत्सव है। कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन के चलते वैसे तो... | mp news kavan so kaj ko hard jug maaaye which is not there so you can get

    कवन सो काज कठिन जग माहीं, जो नहिं होइ तात तुम पाहीं

    3 वर्ष पहले

    दमोह } बुधवार को रामभक्त हनुमानजी का प्राकट्योत्सव है। कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन के चलते वैसे तो इस बार शोभायात्रा नहीं निकल रही है, लेकिन दमाेह नगर और आसपास के क्षेत्र से हर साल शोभायात्रा निकालने वाले पिछले कई दिनों से इसकी तैयारियां कर रहे थे।हमने इन्हीं आयोजकों में से कुछ प्रमुख लोगों से बात की उनसे पूरी तैयारियों के बारे में जानकारी ली। इसे रंग के साथी ग्रुप के चित्रकारों को बताया। इसके बाद चित्रकार असरार अहमद, अंशिता बजाज वर्मा, शालू सोनी, मोनिका जैन, सेजल जैन एवं उर्फी आलिया ने इस शोभायात्रा के स्वरूप को कैनवास पर उकेरा। तो आइए शामिल होते हैं भगवान हनुमानजी के प्राकट्योत्सव के उपलक्ष्य में निकाली जा रही इस शोभायात्रा में....तुलसीदास ने बताया है- हनुमान तो बीमारियों का नाश करते हैं

    सिंधु-तरन, सिय-सोच-हरन, रबि-बाल-बरन तनु।

    भुज बिसाल, मूरति कराल कालहुको काल जनु।।

    गहन-दहन-निरदहन लंक निःसंक, बंक-भुव।

    जातुधान-बलवान-मान-मद-दवन पवनसुव।।

    कह तुलसिदास सेवत सुलभ सेवक हित सन्तत निकट।

    गुन-गनत, नमत, सुमिरत, जपत समन सकल-संकट-विकट।।

    अर्थ- जिनके शरीर का रंग उदयकाल के सूर्य के समान है, जो समुद्र लांघघकर श्रीजानकीजी के शोक को हरने वाले, आजानु-बाहु, डरावनी सूरत वाले और मानो काल के भी काल हैं। लंका-रुपी गम्भीर वन को, जो जलाने योग्य नहीं था, उसे जिन्होंने निःशंक जलाया और जो टेढ़ी भौंहो वाले तथा बलवान राक्षसों के मान और गर्व का नाश करने वाले हैं। तुलसीदास जी कहते हैं – श्रीपवनकुमार सेवा करने पर बड़ी सुगमता से प्राप्त होने वाले, अपने सेवकों की भलाई करने के लिये सदा समीप रहने वाले तथा गुण गाने, प्रणाम करने एवं स्मरण और नाम जपने से सब भयानक संकटों, बीमारियों को नाश करने वाले हैं।।कोरोना से भयभीत ना हों, सतर्क रहकर हनुमानजी का स्मरण करें

    {अगर किसी को बार बार डर लगता हो या फिर किसी प्रकार का भय हो तो उन्हें हनुमान चालीसा की इन चौपाईयों का जप निरंतर करना चाहिए।

    भूत-पिशाच निकट नहीं आवे।महावीर जब नाम सुनावे ।।

    {इस चौपाइ का निरंतर जप करने से सभी प्रकार के भय से मुक्ति मिलती है।

    नासै रोग हरै सब पीरा । जपत निरंतर हनुमत बीरा।

    {यदि कोई बीमारियों से घिरा रहता है, अनेक इलाज कराने के बाद भी वह सुख नही पा रहा, तो उसे इस चौपाई का जप करें।

    अष्ट-सिद्धि नवनिधि के दाता । असबर बर दीन जानकी माता ।।

    {यह चौपाई व्यक्ति को समस्याओं से लड़ने की शक्ति प्रदान करती है। यदि किसी को भी जीवन में शक्तियों की प्राप्ति करनी हो, ताकि वह कठिन समय में खुद को कमजोर ना पाए तो सुबह के समय आधा घंटा इन पंक्तियों का जाप फायदा देगा ।

    विद्यावान गुनी अति चातुर ।

    रामकाज करिबे को आतुर ।।

    {विद्या और गुण चाहिए तो इनके जप से हनुमानजी का आशीर्वाद प्राप्त हो जाता है।

    भीम रूप धरि असुर संहारे ।

    रामचंद्रजी के काज संवारे ।।

    {जीवन में ऐसा कई बार होता है कि तमाम कोशिशों के बावजूद कार्य में विघ्न प्रकट होते हैं । इसके जप से समाधान मिलेगा ।

    और सुनिए

    2

    खुद हनुमानजी क्या कहते हैं

    सागर, बुधवार, 08 अप्रैल, 2020

    श्री हनुमान जयंती आजप्राकट्योत्सव की शोभायात्रा में विशालकाय प्रतिमा से प्रार्थना

    कह हनुमंत बिपति प्रभु सोई।

    जब तव सुमिरन भजन न होई॥

    केतिक बात प्रभु जातुधान की।

    रिपुहि जीति आनिबी जानकी॥

    अर्थ- हनुमान जी ने कहा- हे प्रभु! विपत्ति तो वही (तभी) है जब आपका भजन-स्मरण न हो। हे प्रभो! राक्षसों की बात ही कितनी है? आप शत्रु को जीतकर जानकीजी को ले आएंगे।

    प्रनवउ पवनकुमार खल बन पावक ग्यान घन।

    जासु हृदय आगार बसहिं राम सर चाप धर।

    अर्थ- तुलसीदासजी कहते हैं कि मैं पवनकुमार श्री हनुमानजी को प्रणाम करता हूं, जो दुष्ट रूपी वन को भस्म करने के लिए अग्निरूप हैं, जो ज्ञान की घनमूर्ति हैं और जिनके हृदय रूपी भवन में -बाण धारण किए श्री रामजी निवास करते हैं।

    य जय बजरंगबली, पवनसुत हनुमान की जय, के उद्घोष हो रहे हैं। राम भक्त हनुमान तुम्हारी जय हो... जैसे भजन भी गाए जा रहे हैं तो कुछ लोग कह रहे हैं कवन सो काज कठिन जग माहींजो नहीं हुई तात तुम पाहीं...। हर कोई झूम रहा है तो हर कोई प्रभु भक्ति में खोया हुआ है। बुधवार को कुछ ऐसा ही नजारा शहर की सड़कों पर दिखाई दे रहा है। पूरा शहर शतरंगी ध्वज पताकाओं से सजाया गया है। शहर के विभिन्न हनुमान मंदिरों से एक संयुक्त शोभायात्रा निकली इस शोभायात्रा में इस बार हनुमानजी की विशालकाय प्रतिमा है। जिसके माध्यम से यह संदेश दिया जा रहा है की हनुमानजी से बढ़कर इस जगत में कोई नहीं है। वे सारी विपत्तियों, महामारी का नाश करने वाले हैं। संसार में ऐसा कोई काम नहीं है जो वे न कर सकें। कुछ लोग हाथों में जयश्री राम के नारे लिखे हुए बोर्ड भी लिए हुए हैं। रास्ते में जहां जहां से शोभायात्रा निकलती है लोग भगवान के दर्शनों के लिए आते हैं और हनुमानजी की आराधना और आरती करते हैं। आयोजकों द्वारा भक्तों को प्रसाद बांटा जा रहा है तो विभिन्न सामाजिक संगठनों रास्ते में जगह-जगह शोभायात्रा में चल रहे लोगों का स्वागत कर रहे हैं। उन्हें फल शीतल पेय आदि पिला रहे हैं। हर कोई भगवान से यही प्रार्थना कर रहा है कि जैसे संकट के समय में आपने भगवान श्रीराम के काज संवारे वैसे ही हम सबको भी इस संकट के दौर से जल्दी से बाहर निकालिए।

    खबरें और भी हैं...

    भास्कर अपडेट्स: केन्या में 29 पर्यटकों को ले जा रही नाव डूबी, 3 की मौत; 25 लोगों को बचाया गया, 1 लापता

    देश शेयर

    PM मोदी ने DGP-IGP के कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लिया: नेशनल सिक्योरिटी के लिए फ्यूचर स्ट्रैटजी पर चर्चा हुई, 350 सीनियर पुलिस अधिकारी शामिल हुए

    देश शेयर

    जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में मुगल टेंट पर विवाद: भाजपा बोली- कलाम के नाम पर क्यों नहीं रखा; आयोजकों ने कहा- कोई बदलाव नहीं होगा

    देश शेयर

    WFI के सहायक सचिव को खेल मंत्रालय ने सस्पेंड किया: खिलाड़ियों से रिश्वत लेने का आरोप; सरकार ने फेडरेशन की सभी एक्टिविटीज पर रोक लगाई

    देश शेयर

    भास्कर अपडेट्स: विक्रम देव दत्त DGCA के अगले महानिदेशक होंगे, कैबिनेट कमेटी ने नियुक्ति को मंजूरी दी

    देश शेयर

    पायलट को कोरोना-गद्दार कहने पर थरूर का तंज: गहलोत के लिए कहा- सोचकर बोलें; राजनीति के कारण रोमांस पर लिखने का समय नहीं मिल रहा

    स्रोत : www.bhaskar.com

    'कवन सो काज कठिन जग माहीं, जो नहिं होइ तात तुम पाहीं।' गोस्वामी तुलसीदास जी इसमें क्या प्रेरणा देना चाहते हैं?

    जवाब (6 में से 1): कवन सो काज कठिन जग माहीं। जो नहिं होइ तात तुम्ह पाहीं॥ राम काज लगि तव अवतारा। सुनतहिं भयउ पर्बताकारा कनक बरन तन तेज बिराजा। मानहुँ अपर गिरिन्ह कर राजा॥ सिंहनाद करि बारहिं बारा। लीलहिं नाघउँ जलनिधि खारा सहित सहाय रावनहि मारी। आनउँ इहाँ त्रिकूट उपारी॥ जामवंत मैं पूँछउँ तोही। ...

    "कवन सो काज कठिन जग माहीं, जो नहिं होइ तात तुम पाहीं।" गोस्वामी तुलसीदास जी इसमें क्या प्रेरणा देना चाहते हैं?

    छांटें

    Chandra Prakash Tiwari

    लेखक ने 3.9 हज़ार जवाब दिए हैं और उनके जवाबों को 3.6 क॰ बार देखा गया है2वर्ष

    कवन सो काज कठिन जग माहीं। जो नहिं होइ तात तुम्ह पाहीं॥

    राम काज लगि तव अवतारा। सुनतहिं भयउ पर्बताकारा

    कनक बरन तन तेज बिराजा। मानहुँ अपर गिरिन्ह कर राजा॥

    सिंहनाद करि बारहिं बारा। लीलहिं नाघउँ जलनिधि खारा

    सहित सहाय रावनहि मारी। आनउँ इहाँ त्रिकूट उपारी॥

    जामवंत मैं पूँछउँ तोही। उचित सिखावनु दीजहु मोही।।

    यह चौपाई किष्किंधाकाण्ड के उत्तरार्ध में है जहां वानर सेना समुद्र को पार करके सीता का पता लगाने पर विचार विमर्श कर रही है।

    जामवंत का हनुमान जी से कहना है कि जगत्‌ में कौन सा ऐसा कठिन काम है जो हे तात! तुमसे न हो सके।

    यह चौपाई हमारे लिए भी जोश भरने वाला है, कुछ भी असंभव नहीं है , मनुष्य के अंदर असीम संभावना

    संबंधित सवाल

    'सकल पदारथ एहि जग माहीं। करमहीन नर पावत नाहीं।' गोस्वामी तुलसीदास जी के इस दोहे का भावार्थ क्या है?

    तुलसीदास जी नारियों को किस रूप में देखते हैं?

    क्या तुलसीदास जी ने हनुमान को देखा था ?

    तुलसीदास जी को रामचरितमानस लिखने की प्रेरणा कहाँ से मिली ?

    गोस्वामी तुलसीदास जी को महाकवि किसने बनाया था?

    तीसरा पहलू Vinay Ashta

    ने जवाब दिया हैलेखक ने 1.7 हज़ार जवाब दिए हैं और उनके जवाबों को 38.5 लाख बार देखा गया है13 दिस॰ 2020

    संबंधित

    "कवन सो काज कठिन जग माहीं, जो नहिं होइ तात तुम पाहीं।" गोस्वामी तुलसीदास जी इसमें क्या प्रेरणा देना चाहते हैं?

    सबसे पहले जवाब दिया गया: कौन सा काज कठिन जग माही, जो नहीं होय तात तुम नाही। गोस्वामी तुलसीदास जी इसमें क्या प्रेरणा देना चाहते हैं।?

    कवन सो काज कठिन जग माहीं।

    जो नहिं होइ तात तुम्ह पाहीं॥

    राम काज लगि तव अवतारा।

    सुनतहिं भयउ पर्बताकारा

    भावार्थ

    जगत में कौन सा ऐसा कठिन काम है जो हे तात! तुमसे न हो सके। श्री राम जी

    के कार्य के लिए ही तो तुम्हारा अवतार हुआ है। यह सुनते ही हनुमान जी

    पर्वत के आकार के (अत्यंत विशालकाय) हो गए॥3॥

    मेरे ख्याल से यह वचन मूलतः जामवंत जी ने हनुमान जी को उनकी भूली हुई शक्तियां याद कराने के लिए कहीं थी

    तीसरा पहलू अैाम प्रकाश त्यागी

    ने जवाब दिया हैलेखक ने 2.6 हज़ार जवाब दिए हैं और उनके जवाबों को 65.2 लाख बार देखा गया है13 दिस॰ 2020

    संबंधित

    "कवन सो काज कठिन जग माहीं, जो नहिं होइ तात तुम पाहीं।" गोस्वामी तुलसीदास जी इसमें क्या प्रेरणा देना चाहते हैं?

    " ऐसा कौन सा काम है, जिसे तुम कर नही सकते : यदि तुम उस काम को करने की ठान लो !!! "

    इसका सीधा सा मतलब यह है कि अगर कोई काम ऐसा है जिसे मैं (कह रहा हूँ) नही कर सकता तो सिर्फ इसलिए कि उस काम को करने की प्रबल चाहत मेरे मन में नही है।

    WHERE THERE IS A WILL, THERE IS A WAY!

    जहाँ चाह है, वहाँ राह है !!!!!

    गोस्वामी तुलसीदास इस बात पर जोर दे रहे हैं :

    जो भी काम आप करना चाहते हैं : उसका अच्छा, बुरा; मुनाफा, घाटा पहले ठीक से लगा लो। जब यह ठान लिया कि अमुक काम करना है : फिर उस काम को सिद्ध करने में अपना सर्वस्व झोंक दो।

    LAXMAN KUMAR MALVIYA

    सिविल लायर9 सित॰

    इस पर बागेश्वर महाराज जी ने बहुत ही उम्दा बात कही है आप यूट्यूब पर अवश्य देखिए

    संबंधित सवाल

    क्या आपने किसी महान शख्सियत से ज़िंदगी में कुछ प्रेरणा ली है ? यदि हाँ तो क्या आप नाम बता सकते हैं ?

    क्या आप गोस्वामी तुलसीदास जी के कुछ शिक्षाप्रद दोहे बता सकते हैं?

    गोस्वामी तुलसीदास के बारे में कुछ अद्भुत तथ्य बताइए ?

    तुलसीदास जी द्वारा लिखित पंक्तियों "नहीं दरिद्र सम दुःख जग माही। संत मिलन सम सुख जग नाही।।" का क्या अर्थ है?

    तुलसीदास जी के गुरु कौन थे?

    पौराणिक कथाएं 1

    रीना सिंह "भारद्वाज"

    ने जवाब दिया हैलेखक ने 1.7 हज़ार जवाब दिए हैं और उनके जवाबों को 1.5 क॰ बार देखा गया है28 फ़र॰ 2021

    धन्यवाद अनुरोध के लिए। हनुमान जी बचपन में बहुत शरारती थे, तपस्वियों के यज्ञ में बाधा उत्पन्न करते रहते थे। एक बार उनकी हरकतों से परेशान होकर भृगुवंश के ऋषियों ने हनुमान को श्राप दिया कि वह अपनी शक्ति को भूल जाएंगे, उन्हें अपनी शक्तियां तभी याद आएंगी जब कोई उनको याद दिलाएगा।

    "कवन सो काज कठिन जग माहीं, जो नहिं होइ तात तुम पाहीं।"

    ये पंक्तियां रामचरितमानस की हैं। जब माता सीता की खोज करते हुए जामवंत, अंगद और हनुमानजी दक्षिण के समुद्र तट पर पहुंचे, तो कौन सीता मैया का पता लगाने लंका जाए इसी पर विचार कर रहे थे।

    तभी जामवंत जी ने स्वयं को बूढ़ा होने के कारण असमर्थ बताया। अंगद को अपनी शक्ति और सामर्थ्य पर

    Rajkumarahuja RajkumarAhuja

    Lajpat nagar market में Sale man (2000–मौजूदा)लेखक ने 123 जवाब दिए हैं और उनके जवाबों को 15.5 हज़ार बार देखा गया है8 जन॰

    कठिन परिश्रम करता है ऊस सब मिलता हैं कठिन नही तो कुछ नही

    निशीथ रंजन

    Www.hindisahityadarpan.in में कार्यरत3वर्ष

    संबंधित

    दिनकर साहब की रश्मिरथी से क्या प्रेरणा मिलती है?

    रश्मिरथी मे कर्ण के चरित्र के सभी पक्षों का सजीव चित्रण किया गया है। राष्ट्रकवि दिनकर ने कर्ण की नैतिकता और वफादारी को अद्भुत तरीके से विभूषित किया है।

    दिनकर ने सारे सामाजिक और पारिवारिक संबंधों को नए सिरे से जाँचा है। चाहे गुरु-शिष्य का सम्बन्ध , चाहे अविवाहित मातृत्व और विवाहित मातृत्व का सम्बन्ध हो, चाहे धर्म के बहाने हो, या फिर चाहे छल-प्रपंच का बहाना।

    ‘रश्मिरथी’ यह भी संदेश देता है कि अपने कर्मों से मनुष्य मृत्यु-पूर्व जन्म में ही एक और जन्म ले लेता है। अंततः मूल्यांकन योग्य मनुष्य का मूल्यांकन उसके वंश से नहीं, उसके आचरण और कर्म से ही किया जाना न्यायसंगत है।

    रश्मिरथी पुस्तक के परिचय में दिन

    पलक कढ़ी

    ट्यूशन टिचरलेखक ने 53 जवाब दिए हैं और उनके जवाबों को 1.4 लाख बार देखा गया है2वर्ष

    संबंधित

    "मैं ज़िन्दगी का साथ निभाता चला गया, हर फिक्र को धुएँ में उड़ाता चला गया", इन पंक्तियों में फिक्र को धुएँ में उड़ाने का क्या मतलब है?

    स्रोत : hi.quora.com

    Do you want to see answer or more ?
    Mohammed 11 day ago
    4

    Guys, does anyone know the answer?

    Click For Answer