if you want to remove an article from website contact us from top.

    sushasan divas 25 december ko prativarsh kis purv pradhanmantri ki jayanti per manaya jata hai

    Mohammed

    Guys, does anyone know the answer?

    get sushasan divas 25 december ko prativarsh kis purv pradhanmantri ki jayanti per manaya jata hai from screen.

    सुशासन दिवस

    आम तौर पर हम दुनिया को सर्व मानव ज्ञान का योग बनाने के लिए आमंत्रित करते हैं। अब, हम दुनिया को सर्व मानव ज्ञान की ध्वनि बनाने के लिए आमंत्रित कर रहे हैं।

    [अनुवाद प्रक्रिया में हमारी मदद करें!]

    सुशासन दिवस

    मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

    नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ सुशासन दिवस अनुयायी भारत प्रकार राष्ट्रीय

    उद्देश्य स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी जी की जयंती

    तिथि 25 दिसम्बर आवृत्ति वार्षिक First time 2014

    सुशासन दिवस भारत में प्रतिवर्ष पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी की जयंती के रूप में 25 दिसंबर के दिन मनाया जाता है। सरकार में जवाबदेही के भारतीय लोगों के बीच जागरूकता को बढ़ावा देकर प्रधान मंत्री वाजपेयी को सम्मानित करने के लिए 2014 में सुशासन दिवस की स्थापना की गई थी।[1]

    इस सिद्धांत को ध्यान में रखते हुए, भारत सरकार ने सुशासन दिवस[2] को सरकार के लिए कार्य दिवस के रूप में घोषित किया है। जिसे अंगेजी में Good Governance Day कहते है।

    अनुक्रम

    1 स्थापना

    2 राजनीतिक विरोध से आलोचना

    3 इन्हें भी देखें 4 सन्दर्भ 5 बाहरी कड़ियाँ

    स्थापना[संपादित करें]

    भारतीय राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा 23 दिसंबर 2014 को, नब्बे वर्षीय पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, और पंडित मदन मोहन मालवीय (मरणोपरांत) को भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान, भारत रत्न के लिए भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार के प्राप्तकर्ता के रूप में घोषित किया गया था।[3]

    घोषणा के बाद, उस समय नव निर्वाचित प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के प्रशासन ने इसकी स्थापना करते हुए कहा कि, पूर्व प्रधानमंत्री की जयंती को भारत में प्रतिवर्ष सुशासन दिवस के रूप में मनाया जाएगा।

    राजनीतिक विरोध से आलोचना[संपादित करें]

    भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने सत्तारूढ़-भारतीय जनता पार्टी सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि दोनों एक ही तिथि पर सुशासन दिवस की स्थापना की जाए और उसी दिन क्रिसमस के साथ-साथ इस तिथि को सरकारी कार्य दिवस घोषित करने के लिए, राष्ट्र में धर्मनिरपेक्षता पर सवाल उठाए।

    इन्हें भी देखें[संपादित करें]

    सुशासन अटल बिहारी वाजपेयी बाल दिवस

    सन्दर्भ[संपादित करें]

    ↑ "Good Governance Day 2020: History,Quotes,Ideal Governance,Importance". (अंग्रेज़ी में). 2020-12-25. अभिगमन तिथि 2020-12-25.

    ↑ Kumar, Sandeep. "सुशासन दिवस 2019: कब क्यों और कैसे मनाया जाता है | Good Governance Day in Hindi". . मूल से 24 दिसंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2019-12-24.

    ↑ "Good Governance Day 2020: 25 दिसंबर को क्यों मनाया जाता है सुशासन दिवस ?". . अभिगमन तिथि 2020-12-25.

    बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

    Official Good Governance Day information page

    श्रेणियाँ: Infobox holiday (other)अटल बिहारी वाजपेयी2014 में भारत

    स्रोत : hi.wikipedia.org

    सुशासन दिवस : 25 दिसंबर

    Good Governance Day observed on 25 December

    सुशासन दिवस : 25 दिसंबर

    December 25, 2021 0 Comments 0 comment

    भारत में, गुड गवर्नेंस डे (सुशासन दिवस) प्रतिवर्ष 25 दिसंबर को मनाया जाता है। इस दिन देश भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) की जयंती मनाता है। इसी सिद्धांत को ध्यान में रखते हुए सुशासन दिवस को सरकार के लिए कार्य दिवस घोषित किया गया है।

    Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other examsहिन्दू रिव्यू नवम्बर 2021, Download Monthly Hindu Review PDF in Hindiदिन का महत्व:

    इस दिन को मनाने का उद्देश्य देश के छात्रों और नागरिकों को सरकार के कर्तव्यों और जिम्मेदारियों के बारे में बताना है जिसे उन्हें पूरा करने की आवश्यकता है। सुशासन दिवस सरकार को उनकी जिम्मेदारियों के बारे में एक अनुस्मारक के रूप में कार्य करता है और सरकार को निष्पक्ष, पारदर्शी और विकासोन्मुख होना चाहिए।

    दिन का इतिहास:23 दिसंबर 2014 को, पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और पंडित मदन मोहन मालवीय (Pandit Madan Mohan Malaviya) को देश का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न (Bharat Ratna) प्राप्त करने की घोषणा की गई थी। घोषणा के बाद, नवनिर्वाचित प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने 25 दिसंबर को सुशासन दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की है।अटल बिहारी वाजपेयी के बारे में:

    अटल बिहारी वाजपेयी ने तीन बार भारत के प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया। उनका पहला कार्यकाल 1996 में केवल 13 दिनों के लिए था। उन्होंने मार्च 1998 से अप्रैल 1999 तक तेरह महीने की अवधि के लिए अपना दूसरा कार्यकाल और फिर 1999 से 2004 तक पूर्ण कार्यकाल के लिए सेवा की। संसद में उनका पहला प्रवेश 1962 में राज्यसभा के माध्यम से हुआ था। वे सात बार लोकसभा के लिए चुने गए। 2015 में, श्री वाजपेयी को भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

    Find More Important Days Here

    IMPORTANT DAYS YOU MIGHT ALSO LIKE

    IMPORTANT DAYS

    विश्व लिंफोमा जागरूकता दिवस: 15 सितंबर

    IMPORTANT DAYS

    International Day of Democracy 2022: जानें अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस का इतिहास और महत्व

    IMPORTANT DAYS

    Engineers Day 2022: जानें 15 सितंबर को ही क्यों मनाया जाता है इंजीनियर्स डे?

    NextPrevious

    CURRENT AFFAIRS ONE LINERS JUNE 2022 PDF IN HINDI

    350 + Current Affairs Questions and Answers PDF in Hindi

    THE HINDU REVIEW- JULY 2022 PDF

    स्रोत : hindicurrentaffairs.adda247.com

    Good Governance Day 2020 Date History And All You Need To Know

    भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपेयी की जयंती के उपलक्ष्य में हर साल भारत में गुड गवर्नेंस डे मनाया जाता है. यह दिन पूरी तरह से पूर्व पीएम अटल विहारी वाजपेयी को समर्पित होता है. अटल विहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे, जिन्होंने भारत को शिखर तक पहुंचाया.

    Good Governance Day 2020: 25 दिसंबर को क्यों मनाया जाता है सुशासन दिवस ?

    Good Governance Day 2020: 25 दिसंबर को क्यों मनाया जाता है सुशासन दिवस ? भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपेयी की जयंती के उपलक्ष्य में हर साल भारत में 'गुड गवर्नेंस डे' मनाया जाता है. यह दिन पूरी तरह से पूर्व पीएम अटल विहारी वाजपेयी को समर्पित होता है.

    Good Governance Day 2020: 25 दिसंबर को क्यों मनाया जाता है सुशासन दिवस ?

    Good Governance Day 2020: 25 दिसंबर को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर सुशासन दिवस (Good Governance Day) मनाया जाता है. यह दिन श्री वाजपेयी के सम्मान में साल 2014 में सरकार में जवाबदेही के लोगों के बीच जागरूकता को बढ़ावा देने के लिए स्थापित किया गया था. इस सिद्धांत को ध्यान में रखते हुए, सुशासन दिवस को सरकार के लिए कार्य दिवस घोषित किया गया है. अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) एक भारतीय राजनीतिज्ञ और असाधारण लेखक थे, जिन्होंने भारत के 10वें प्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया. एक बार अटल बिहारी बाजपेयी ने कहा, "एक दिन आप एक पूर्व प्रधान मंत्री बन सकते हैं, लेकिन आप कभी पूर्व-कवि नहीं बन सकेंगे".

    यह भी पढ़ें

    अच्छे दिन अभी हैं दूर, 40 फीसदी प्रोजेक्ट्स लटके

    पीएम नरेंद्र मोदी ने 'सुशासन दिवस' पर पारदर्शी और जवाबदेह प्रशासन का किया वादा

    मोदी ने सफाई अभियान में सौरव गांगुली, कपिल शर्मा समेत अन्य हस्तियों को किया नामांकित

    Christmas 2020: क्यों 25 December को ही मनाते हैं क्रिसमस, जानिए सीक्रेट सैंटा की पूरी कहानीसुशासन दिवस का इतिहास

    23 दिसंबर 2014 को श्री वाजपेयी और पंडित मदन मोहन मालवीय (मरणोपरांत) को भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, भारत रत्न से सम्मानित किए जाने की घोषणा की थी. इस घोषणा के बाद, मोदी सरकार ने घोषणा की कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी जी की जयंती को भारत में प्रतिवर्ष सुशासन दिवस के रूप में मनाया जाएगा. हालाँकि, इस निर्णय की मुख्य विपक्षी दल, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने आलोचना की थी, उसी दिन क्रिसमस के साथ-साथ इस तिथि को सरकार के कार्य दिवस के रूप में घोषित करने के लिए सुशासन दिवस की भी स्थापना की गई थी.

    सुशासन दिवस का उद्देश्य

    -देश में पारदर्शी और जवाबदेह प्रशासन प्रदान करने के लिए सरकार की प्रतिबद्धता से लोगों को अवगत कराना.

    -सुशासन दिवस लोगों के कल्याण और बेहतरी को बढ़ाने के लिए मनाया जाता है.

    -यह सरकारी कामकाज को मानकीकृत करने और इसे देश के नागरिकों के लिए अत्यधिक प्रभावी और जवाबदेह शासन बनाने के लिए मनाया जाता है.

    -भारत में सुशासन के मिशन को पूरा करने के लिए अच्छी और प्रभावी नीतियों को लागू करना.

    -सुशासन के माध्यम से देश में विकास और विकास को बढ़ाना.

    -सुशासन प्रक्रिया में उन्हें सक्रिय भागीदार बनाने के लिए नागरिकों को सरकार के करीब लाना.

    सुशासन दिवस पर याद किए जाते हैं पूर्व पीएम

    गुड गवर्नेंस डे के अवसर पर लोग अटल विहारी वाजपेयी को याद कर उन्हें श्रद्धांजलि देते हैं. इस दिन उन्हें याद कर उनके द्वारा किए गए कामों के बारे में बात की जाती है. अलग-अलग जगहों पर सेमिनार का आयोजन भी होता है. सेमिनार के जरिए लोग उनके द्वारा किए गए कामों के बारे में विस्तार से जानते हैं. बता दें कि साल 2018 में पूर्व पीएम का निधन हो गया था.

    यह भी पढ़ें-National Consumer Rights Day 2020: क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय उपभोक्ता अधिकार दिवस ? जानिए उपभोक्ता के अधिकार ?Christmas 2020: इस वजह से 25 दिसंबर को मनाया जाता है क्रिसमस, यह है इतिहासKisan Diwas 2020: क्यों 23 दिसंबर को मनाया जाता है किसान दिवस ?National Mathematics Day 2020: हम 22 दिसंबर को क्यों मनाते हैं गणित दिवस ? जानिए इतिहास और इस दिन का महत्वInternational Human Solidarity Day 2020: जानिए, क्यों मनाया जाता है अंतरराष्ट्रीय मानव एकजुटता दिवस ?

    Good Governance Day 2020Good Governance Dayसुशासन दिवस

    टिप्पणियां

    पढ़ें देश और दुनिया की ताजा ख़बरें अब हिंदी में (Hindi News) | शिक्षा समाचार (Education News) , शहर (City News) , बॉलीवुड और राजनीति के समाचार at NDTV.in

    लाइव खबर देखें: फॉलो करे:

    ट्रेंडिंग

    गौरी खान ने दी बेटे आर्यन खान को सलाह, बोलीं- जितनी चाहों उतनी लड़कियों को डेट करो, लेकिन शादी...

    स्कूल फॉर्म में मांगी गई बच्चे की जानकारी, मां ने दिए ऐसे अजीबोगरीब जवाब, हो गया वायरल, पढ़कर लोग हैरान

    दांतों में लगे कीड़ों को दूर करता है घर पर बना यह हर्बल पाउडर, Teeth Cavity से मिल जाएगा छुटकारा

    सेलेब्सरॉबिन उथप्पा का क्रिकेट को अलविदा10 Slides

    ब्यूटीएलोवेरा से रखें स्किन हाइड्रेट10 Slides

    Sur Yapı Antalya'da Tam Evi Tam Zamanı

    Fiyat Al! 444 5 787 Sur Yapı

    इन 4 बीमारियों में खीरा है फायदेमंद, यहां जाने इसके पोषक तत्व कैसे पहुंचाते हैं लाभ

    खीरे का सेवन करने से कौन-कौन सी बीमारियां कंट्रोल में रहती हैं इसके बारे में आज हम इस लेख में बताएंगे जो आपके बहुत काम आने वाले हैं. तो चलिए जानते हैं.

    NDTVIndia

    Burning Urine : पेशाब करते समय होने लगी है जलन, तो इसके पीछे है बड़ी वजह, यहां जानिए

    स्रोत : ndtv.in

    Do you want to see answer or more ?
    Mohammed 2 day ago
    4

    Guys, does anyone know the answer?

    Click For Answer