if you want to remove an article from website contact us from top.

    thandi thandi raat ho charo taraf andhera ho ik rajai me lipte 2 badan ik tera ho ik mera ho

    Mohammed

    Guys, does anyone know the answer?

    get thandi thandi raat ho charo taraf andhera ho ik rajai me lipte 2 badan ik tera ho ik mera ho from screen.

    Thandi Thandi Raat 2

    Thandi Thandi Raat 2 song by Rashmi Verma now on JioSaavn. Hindi music album Thandi Thandi Raat 2. Download song or listen online free, only on JioSaavn.

    Thandi Thandi Raat 2

    Thandi Thandi Raat 2  by Rashmi Verma

    Song ·  0:59  ·  Hindi Play

    You Might Like

    Dheere Dheere Se Meri Zindagi Mein Aana

    Anuradha Paudwal, Kumar Sanu - Aashiqui

    Raataan Lambiyan (From "Shershaah")

    Tanishk Bagchi, Jubin Nautiyal, Asees Kaur - Raataan Lambiyan (From "Shershaah")

    Baazigar O Baazigar

    Kumar Sanu, Alka Yagnik - Baazigar

    Pyaar Karte Ho Na

    Javed-Mohsin, Stebin Ben, Shreya Ghoshal - Pyaar Karte Ho Na

    Ve Maahi

    Asees Kaur, Arijit Singh - Kesari

    Tere Naam

    Alka Yagnik, Udit Narayan - Tere Naam

    Lut Gaye (Feat. Emraan Hashmi)

    Jubin Nautiyal, Tanishk Bagchi, Nusrat Fateh Ali Khan - Lut Gaye (Feat. Emraan Hashmi)

    Srivalli

    Javed Ali - Pushpa The Rise Part - 01

    Dhokha

    Arijit Singh, Manan Bhardwaj - Dhokha

    Terre Pyaar Mein

    Himesh Reshammiya - Terre Pyaar Mein

    Maiyya Mainu

    Sachet Tandon - Jersey

    Thoda Thoda Pyaar

    Stebin Ben - Thoda Thoda Pyaar

    Mera Dil Bhi Kitna Pagal Hai

    Kumar Sanu, S. P. Balasubrahmanyam, Alka Yagnik - Saajan

    Agar Tum Saath Ho

    Alka Yagnik, Arijit Singh - Tamasha

    Tumhein Apna Banane Ki Kasam Khai Hai

    Anuradha Paudwal, Kumar Sanu - Sadak

    Tumse Pyaar Karke

    Tulsi Kumar, Jubin Nautiyal, Payal Dev - Tumse Pyaar Karke

    Currently Trending Songs

    Bhool Bhulaiyaa 2 Title Track (From "Bhool Bhulaiyaa 2")

    Pritam, Tanishk Bagchi, Neeraj Shridhar, Mellow D - Bhool Bhulaiyaa 2 Title Track (From "Bhool Bhulaiyaa 2")

    Chaiyaan Mein Saiyaan Ki

    Asees Kaur, Jubin Nautiyal, Keshav Kumar - Khuda Haafiz Chapter 2 -Agni Pariksha

    Jaa Rahe Ho

    Yasser Desai, Kunaal Vermaa - Jaa Rahe Ho

    Tumse Pyaar Karke

    Tulsi Kumar, Jubin Nautiyal, Payal Dev - Tumse Pyaar Karke

    Mehabooba

    Ananya Bhat - KGF Chapter 2

    Yaad Aati Nahin

    Pawan Singh, Salim-Sulaiman - Yaad Aati Nahin

    Bas Tum Mere Paas Raho

    Himesh Reshammiya, Salman Ali - Bas Tum Mere Paas Raho

    Kuch Baatein

    Payal Dev, Jubin Nautiyal - Kuch Baatein

    Meri Jaan

    Neeti Mohan - Gangubai Kathiawadi

    Dhokha

    Arijit Singh, Manan Bhardwaj - Dhokha

    Mast Nazron Se

    Rochak Kohli, Jubin Nautiyal, Nasir Iqbal - Mast Nazron Se

    Ik Tu Hai ❤️

    Shashwat Sachdev, Jubin Nautiyal - Attack

    Meri Tarah

    Payal Dev, Jubin Nautiyal - Meri Tarah

    Main Ki Karaan? (From "Laal Singh Chaddha")

    Pritam, Sonu Nigam, Romy - Main Ki Karaan? (From "Laal Singh Chaddha")

    Kachiyaan Kachiyaan

    Jubin Nautiyal, Meet Bros - Kachiyaan Kachiyaan

    Toofan

    Sandesh Datta Naik - KGF Chapter 2

    Har Har Shambhu Shiv Mahadeva (feat. Abhilipsa Panda)

    Jeetu Sharma - Har Har Shambhu Shiv Mahadeva

    Dhokebaaz

    Jaani, Afsana Khan - Dhokebaaz

    Yaad Na Aaye

    Akull - Yaad Na Aaye

    Yaaron Sab Dua Karo

    Meet Bros, Stebin Ben, Danish Sabri - Yaaron Sab Dua Karo

    Rangisari (From "Jugjugg Jeeyo")

    Kanishk Seth, Kavita Seth - Rangisari (From "Jugjugg Jeeyo")

    Hum Nashe Mein Toh Nahin (From "Bhool Bhulaiyaa 2")

    Pritam, Arijit Singh, Tulsi Kumar - Hum Nashe Mein Toh Nahin (From "Bhool Bhulaiyaa 2")

    Designer (Feat. Divya Khosla Kumar)

    Yo Yo Honey Singh, Guru Randhawa - Designer (Feat. Divya Khosla Kumar)

    Jo Mujhe Deewana Kar De

    Manan Bhardwaj, Tulsi Kumar - Jo Mujhe Deewana Kar De

    Top Songs By Same Artists

    Tumhe Dil Diya Hai

    Rashmi Verma - Tumhe Dil Diya Hai

    Thandi Thandi Raat 1

    Rashmi Verma - Thandi Thandi Raat 1

    Ayi Marjani Jawani

    Rashmi Verma - Ayi Marjani Jawani

    Aankhon Ke Raste

    Rashmi Verma - Aankhon Ke Raste

    Kunware Dilon Ki Rani

    Rashmi Verma - Ye Kaisa Pal Do Pal Ka Pyar

    Main Hoon Jalta Ik Sharara 3

    स्रोत : www.jiosaavn.com

    haathon photos on Flickr

    Flickr photos, groups, and tags related to the "haathon" Flickr tag.

    Tags haathon

    View allAll Photos Tagged haathon

    Colours Of Her Dreams by Hameed

    26 40

    I was at Tariq Rd(a very famous shopping street in karachi) yesterday taking random shots of people and i came across this under rennovation bangle shop.The owner was a bit hesitant at first but on my insistence he was kind enuff to allow me to take photos:)

    I dont know why but im always reminded of this song whenever i see Bangles anywhere.Its taken from a super hit bollywood film CHANDNI starring Rishi Kapoor and Sri Devi and i remember watching it eons ago:)

    Mere HaathoN Mein Nau-nau ChooriyaaN Hain,

    ThoDaa Thahro Sajan MajbooriyaaN Hain

    Milan Hogaa Abhi Ik Raat Ki DooriyaaN Hain

    Mere Haathon Mein Nau-nau Chooriyaan Hain

    *This photo is dedicated to a Zabardast friend who lives far far away.

    The LOst LoVe ! by shrikanth sy

    32 65

    Hmm..... its 1.35 A.M here in india and i shot this one only a few minutes before. just to briefly tell you guys about the reason behind shooting this picture is, two days before i read a beautiful Shaayri (Poem) in my friend's stream (http://www.flickr.com/photos/atultater/3559194635/) and since then the thought of shooting this picture

    started haunting me. Today i decided to giving it a try. First let me tell u guys the Shaayri (poem)

    its in the language Urdu.(Below Is the Meaning in English)

    ''Ungliyaan Abhi Bhi isi Soch Main Gum Hain Faraz

    Kaise Usane Naye Haathon ko Thaama Hoga.''

    its very difficult to explain the exact meaning of this Shaayri (Poem) in English. i will try my level best.

    its basically about a lover who is been betrayed by His girlfriend... so the poet(betrayed lover) speaks out his pain in the form of this Shaayri (Poem). he says

    ''(My) fingers are still lost in this thought,

    How could she have held some one Else's hand.''

    Hope that is clear enough.so i shot this picture to bring out the mood of this Shaayri (Poem).

    i would really like to thank my friend Atul for sharing this beautiful shaayri with us.

    "Aysh-o-ishr'at , ishq ,zees't jawani hai sehat sey , waqt reeyt ki muthi sa haathon sy nikla jae hai." - Jamil WAQAR ~(my dad) by Saleha jamil

    15 28

    The whole assests of life are not meant to stay forever No matter how hard you try they are left behind just like sand , the more you grab it the more it slips.. - my sister words...

    shot by me edit by me. Thank You fellas

    Bavra Mann, Dekhne Chala Ek Sapna by manwar hossain

    13 15

    Bavra Mann Dekhne Chala Ek Sapna

    Bavra Mann Dekhne Chala Ek Sapna

    Bavre Se Mann, Ki Dekho Bavri Hain Baatein

    Bavre Se Mann, Ki Dekho Bavri Hain Baatein

    Bavri Se Dhadkaane Hain, Bavri Hain Saansen

    Bavri Si Karwaton Se, Nindiya Door Bhaage

    Bavre Se Nain Chaahe, Bavre Jharokhon Se, Bavre Nazaron Ko Takna.

    Bavra Mann Dekhne Chala Ek Sapna

    Bavre Se Is Jahan Main Bavra Ek Saath Ho

    Is Sayani Bheed Main Bas Haathon Mein Tera Haath Ho

    Bavri Si Dhun Ho Koi, Bavra Ek Raag Ho

    Bavri Si Dhun Ho Koi, Bavra Ek Raag Ho

    Bavre Se Pair Chahen, Baavron Tarano Ke, Bavre Se Bol Pe Thirakna.

    Bavra Mann, Dekhne Chala Ek Sapna

    Bavra Sa Ho Andhera, Bavri Khamoshiyan

    Bavra Sa Ho Andhera, Bavri Khamoshiyan

    Thartharati Low Ho Maddham, Bavri Madhoshiyan

    Bavra Ek Ghooghta Chahe, Haule Haule Bin Bataye, Bavre Se Mukhde Se Sarakana,

    Bavra Mann, Dekhne Chala Ek Sapna

    To propose or not to propose?? To Love or not to Love?? To accept or not to accept?? by Mahendra Patnaik

    9 13

    bavra mann dekhne chala ek sapna ..

    bavrese mann ki dekho bavri hain baatein

    bavrese mann ki dekho bavri hain baatein

    bavrisi dhadkane hain bavri hain saanse

    bavrisi karwanto se nindiya kyon bhaage

    bavrese nain chahe bawre zarokhon se bavre naazaroon ko takna

    bavra mann dekhne chala ek sapna

    bavrese is jahan mein bawra ek saath ho

    is saayani bheed mein bass haathon mein tera haath ho

    bavrisi dhun ho koi bavra ek raag ho

    bavrisi dhun ho koi bavra ek raag ho

    bavrese pair chahe bawre tarano ke bavrese bol pe thirkana

    bavra mann dekhne chala ek sapna

    bavrasa ho andhera bavri khamoshiyaan

    thartharati lav ho matthamm bavri madhoshiyaan

    bavra ek gunghata chaye hole hole dinn batayein

    bavra ek gunghata chaye hole hole dinn batayein

    bavrese mukhadese saraktaa

    bavra mann dekhne chala ek sapna

    Life continues ... by Humayunn Peerzaada

    8 6

    for this young boy who serves tea to offices and the studio where i shoot ...

    aaj jab shooting kar raha tha .. chaay aai .. chaay lekar ye nanha bacha chhay ko tray mein lekar aaya .. garam garam chaay aur is tray ko pakadne se is bache ke haathon mein chaale aa gaye the .. dara dara sa woh studio mein aaya .. dekhkar afsos ke saath dil mein raham aaya .. bada ajeeb sa lagta ki kam se kam bachon mein to sahuliyaton mein bhed bhaav nahi hona chahiye ..

    hum sab kuch karna chahte hai in bachon ke liye .. magar ye soch wakti taur par hoti hai .. wakt beet jaata hai .. hum apne apne kaamo mein lag jaate hai .... aur masla wahin ka wahin rahta hai

    kaash koi in choto bachon ko is tarah ke kaam karne par rok lagaye .. kaash ye saare bache ache se rahe .. padhe aur hamare mulk ka naam roshan karen .. ameen ..

    ==============================

    स्रोत : www.flickr.com

    संध्या का समय है, डूबने वाले सूर्य की सुनहरी किरणें रंगीन शीशो की आड़ से, एक अंग्रेजी ढंग पर सजे हुए कमरे में झॉँक रही हैं जिससे सारा कमरा रंगीन हो रहा है। अंग्रेजी ढ़ंग की मनोहर तसवीरें, जो दीवारों से लटक रहीं है, इस समय रंगीन वस्त्र धारण करके और भी सुंदर मालूम होती है। कमरे के बीचोंबीच एक गोल मेज़ है जिसके चारों तरफ नर्म मखमली गद्दोकी रंगीन कुर्सियॉ बिछी हुई है। इनमें से एक कुर्सी पर एक युवा पुरूष सर नीचा किये हुए बैठा कुछ सोच रहा है। वह अति सुंदर और रूपवान पुरूष है जिस पर अंग्रेजी काट के कपड़े बहुत भले मालूम होते है। उसके सामने मेज पर एक कागज है जिसको वह बार-बार देखता है। उसके चेहरे से ऐसा विदित होता है कि इस समय वह किसी गहरे सोच में डूबा हुआ है। थोड़ी देर तक वह इसी तरह पहलू बदलता रहा, फिर वह एकाएक उठा और कमरे से बाहर निकलकर बरांडे में टहलने लगा, जिसमे मनोहर फूलों और पत्तों के गमले सजाकर धरे हुए थे। वह बरांडे से फिर कमरे में आया और कागज का टुकड़ा उठाकर बड़ी बेचैनी के साथ इधर-उधर टहलने लगा। समय बहुत सुहावना था। माली फूलों की क्यारियों में पानी दे रहा था। एक तरफ साईस घोड़े को टहला रहा था। समय और स्थान दोनो ही बहुत रमणीक थे। परन्तु वह अपने विचार में ऐसा लवलीन हो रहा था कि उसे इन बातों की बिलकुल सुधि न थी। हॉँ, उसकी गर्दन आप ही आप हिलाती थी और हाथ भी आप ही आप इशारे करते थे—जैसे वह किसी से बातें कर रहा हो। इसी बीच में एक बाइसिकिल फाटक के अंदर आती हुई दिखायी दी और एक गोरा-चिटठा आदमी कोट  पतलून पहने, ऐनक लगाये, सिगार पीता, जूते चरमर करता, उतर पड़ा और बोला, गुड ईवनिंग, अमृतराय।

    अमृतराय ने चौंककर सर उठाया और बोले—ओ। आप है मिस्टर दाननाथ। आइए बैठिए। आप आज जलसे में न दिखायी दियें।

    दाननाथ—कैसा जलसा। मुझे तो इसकी खबर भी नहीं।

    अमृतराय—(आश्चर्य से) ऐं। आपको खबर ही नहीं। आज आगरा के लाला धनुषधारीलाल ने बहुत अच्छा व्याख्यान दिया और विरोधियो के दॉँत खटटे कर TempCorpus_utf8दिये।

    दाननाथ—ईश्वर जानता है मुझे जरा भी खबर न थी, नहीं तो मैं अवश्य आता। मुझे तो लाला साहब के व्याख्यानों के सुनने का बहुत दिनों से शौंक है। मेरा अभाग्य था कि ऐसा अच्छा समय हाथ से निकल गया। किस बात पर व्याख्यान था?

    अमृतराय—जाति की उन्नति के सिवा दूसरी कौन-सी बात हो सकती थी? लाला साहब ने अपना जीवन इसी काम के हेतु अर्पण कर दिया है। आज ऐसा सच्चा देशभक्त और निष्कास जाति-सेवक इसदेश में नहीं है। यह दूसरी बात है कि कोई उनके सिद्वांतो को माने या न माने, मगर उनके व्याख्यानों में ऐसा जादू होता है कि लोग आप ही आप खिंचे चले आते है। मैंने लाला साहब के व्याख्यानों के सुनने का आनंद कई बार प्राप्त किया है। मगर आज की स्पीच में तो बात ही और थी। ऐसा जान पड़ता है कि उनकी ज़बान में जादू भरा है। शब्द वही होते है जो हम रोज़ काम में लाया करते है। विचार भी वही होते है जिनकी हमारे यहॉँ प्रतिदिन चर्चा रहती है। मगर उनके बोलने का ढंग कुछ ऐसा अपूर्व है कि दिलों को लुभा लेता है।

    दाननाथ को ऐसी उत्तम स्पीच को न सुनने का अत्यंत शोक हुआ। बोले—यार, मैं जंम का अभागा हूँ। क्या अब फिर कोई व्याख्यान न होगा?

    अमृतराय—आशा तो नहीं हैं क्योंकि लाला साहब लखनऊ जा रहे है, उधर से आगरा को चले जाएंगे। फिर नहीं मालूम कब दर्शन दें।

    दाननाथ—अपने कर्म की हीनता की क्या कहूँ। आपने उसस्पीच कीकोई नकल की हो तो जरा दीजिए। उसी को देखकर जी को ढारस दूँ।

    इस पर अमृतराय ने वही कागज का टुकड़ा जिसको वे बार-बार पढ़ रहे थे दाननाथ के हाथ में रख दिया और बोले—स्पीच के बीच-बीच में जो बाते मुझको  सवार हो जाती है तो आगा-पीछा कुछ नहीं सोचते, समझाने लगे—मित्र, तुम कैसी लड़कपन की बातें करते हो। तुमको शायद अभी मालूम नहीं कि तुम कैसा भारी बोझ अपने सर पर ले रहे हो। जो रास्ता अभी तुमको साफ दिखायी दे रहा है वह कॉँटो से ऐसा भरा है कि एक-एक पग धरना कठिन है।

    अमृतराय—अब तो जो होना हो सो हो। जो बात दिल में जम गयी वह तम गयीं। मैं खूब जानता हूं कि मुझको बड़ी-बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा। मगर आज मेरा हिसाब ऐसा बढ़ा हुआ हैं कि मैं बड़े से बड़ा काम कर सकता हूं और ऊँचे से ऊँचे पहाड़ पर चढ़ सकता हूँ।

    दाननाथ—ईश्वर आपके उत्साह को सदा बढ़ावे। मैं जानता हूँ कि आप जिस काम के लिए उद्योग करेगें उसे अवश्य पूरा कर दिखायेगें। मैं आपके इरादों में विध्न डालना कदापि नहीं चाहता। मगर मनुष्य का धर्म हैं कि जिस काम में हाथ लगावे पहले उसका ऊँच-नीच खूब विचार ले। अब प्रच्छन बातों से हटकर प्रत्यक्ष बातों की तरफा आइए। आप जानते हैकि इस शहर के लोग, सब के सब, पुरानी लकीर के फकीर है। मुझे भय है कि सामाजिक सुधार का बीज यहॉँ कदापि फल-फुल न सकेगा। और फिर, आपका सहायक भी कोई नजर नहीं आता। अकेले आप क्या बना लेंगे। शायद आपके दोस्त भी इस जोखिम के काम में आपका हाथ न बँटा सके। चाहे आपको बुरा लगे, मगर मैं यह जरूर कहूँगा कि अकेले आप कुछ भी न कर सकेंगे।

    अमृतराय ने अपने परम मित्र की बातों को सुनकर सा उठाया और बड़ी गंभीरता से बोले—दाननाथ। यह तुमको क्या हो गया है। क्या मै तुम्हारे मुँह से ऐसी बोदेपन की बातें सुन रहा हूं। तुम कहते हो अकेले क्या बना लोगे? अकेले आदमियों की कारगुजारियों से इतिहास भरे पड़े हैं। गौतम बुद्व कौन था? एक जंगल का बसनेवाला साधु, जिसका सारे देश में कोई मददगार न था। मगर उसके जीवन ही में आधा हिन्दोस्तान उसके पैरों पर सर धर चुका था। आपको कितने प्रमाण दूँ। अकेले आदमियों से कौमों के नाम चल रहे है। कौमें मर गयी है। आज उनका निशान भी बाकी नहीं। मगर अकेले आदमियों के नाम अभी तक जिंदा है। आप जानते हैं कि प्लेटों एक अमर नाम है। मगर आपमें कितने ऐसे हैं जो यह जानते हों कि वह किस देश का रहने वाला है।

    दाननाथ समझदार आदमी थे। समझ गये कि अभी जोश नया है और समझाना बुझाना सब व्यर्थ होगा। मगर फिर भी जी न माना। एक बार और उलझना आवश्यक  ‘अच्छी जान पड़ी मैने उनको तुरंत नकल कर लिया। ऐसी जल्दी में लिखा है कि मेरे सिवा कोई दूसरा पढ़ भी न सकेगा। देखिए हमारी लापरवाही को कैसा आड़े हाथों लिया है:

    सज्जनों। हमारी इस दुर्दशा का कारण हमारी लापरवाही हैं। हमारी दशा उस रोगी की-सी हो रही है जो औषधि को हाथ में लेकर देखता है मगर मुँह तक नहीं ले जाता। हॉँ भाइयो। हम ऑंखे रचाते है मगर अंधे है, हम कान रखते है मगर बहरें है, हम जबान रखते है मगर गूँगे हैं। परंतु अब वह दिन नहीं रहे कि हमको अपनी जीत की बुराइयाँ न दिखायी देती हो। हम उनको देखते है और मन मे उनसे घृणा भी करते है। मगर जब कोई समय आ जाता है तो हम उसी पुरानी लकीर पर जाते है और नर्अ बातों को असंभव और अनहोनी समझकर छोड़ देते है। हमारे डोंगे का पार लगाना, जब कि मल्लाह ऐसे बाद और कादर है, कठिन ही नहीं प्रत्युत दुस्साध्य है।

    स्रोत : home.iitk.ac.in

    Do you want to see answer or more ?
    Mohammed 1 month ago
    4

    Guys, does anyone know the answer?

    Click For Answer