if you want to remove an article from website contact us from top.

    use kalatmak shaili ko kya kehte hain jiske dwara koi sundar aakruti banai jaati hai

    Mohammed

    Guys, does anyone know the answer?

    get use kalatmak shaili ko kya kehte hain jiske dwara koi sundar aakruti banai jaati hai from screen.

    मौर्यकालीन स्थापत्य या वास्तु कला

    मौर्यकालीन स्थापत्य या वास्तु कला

    मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

    नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

    यह लेख सामान्य उल्लेखनीयता निर्देशों के अनुरूप नहीं है। कृपया विषय के बारे में विश्वसनीय स्रोत जोड़कर उल्लेखनीयता स्थापित करने में सहायता करें। यदि उल्लेखनीयता स्थापित न की जा सकी, तो लेख को विलय, पुनर्निर्देशित अथवा हटाया जा सकता है।

    "मौर्यकालीन स्थापत्य या वास्तु कला" – समाचार · अखबार पुरालेख · किताबें · विद्वान · जेस्टोर (JSTOR)

    इस लेख को विकिफ़ाइ करने की आवश्यकता हो सकती है ताकि यह विकिपीडिया के गुणवत्ता मानकों पर खरा उतर सके

    कृपया आन्तरिक कड़ियाँ जोड़कर, या लेख का लेआउट सुधार कर सहायता प्रदान करें।

    अधिक जानकारी के लिये दाहिनी ओर [दिखाएँ] पर क्लिक करें।

    [दिखाएँ]

    चामरग्राहिणी दीदारगंज यक्षी

    तीसरी शताब्दी ईसापूर्व- दूसरी शताब्दी ई[1][2] बिहार संग्रहालय, पटना

    कला की दृष्टि से हड़प्पा की सभ्यता और मौर्यकाल के बीच लगभग 1500 वर्ष का अंतराल है। इस बीच की कला के भौतिक अवशेष उपलब्ध नहीं है। महाकाव्यों और बौद्ध ग्रंथों में हाथीदाँत, मिट्टी और धातुओं के काम का उल्लेख है। किन्तु मौर्यकाल से पूर्व वास्तुकला और मूर्तिकला के उदाहरण कम ही मिलते हैं। मौर्यकाल में ही पहले—पहल कलात्मक गतिविधियों का इतिहास निश्चित रूप से प्रारम्भ होता है। राज्य की समृद्धि और मौर्य शासकों की प्रेरणा से कलाकृतियों को प्रोत्साहन मिला।

    इस युग में कला के दो रूप मिलते हैं। एक तो राजरक्षकों के द्वारा निर्मित कला, जो कि मौर्य प्रासाद और अशोक स्तंभों में पाई जाती है। दूसरा वह रूप जो परखम के यक्ष दीदारगंज की चामर ग्राहिणी और वेसनगर की यक्षिणी में देखने को मिलता है। राज्य सभा से सम्बन्धित कला की प्रेरणा का स्रोत स्वयं सम्राट था। यक्ष—यक्षिणियों में हमें लोककला का रूप मिलता है। लोककला के रूपों की परम्परा पूर्व युगों से काष्ठ और मिट्टी में चली आई है। अब उसे पाषाण के माध्यम से अभिव्यक्त किया गया।

    अनुक्रम

    1 राजकीय कला

    2 मेगस्थनीज के अनुसार मौर्य कला

    3 स्तंभों की—विशेषता

    4 ईरानी स्तंभों और मौर्य स्तंभों में स्पष्ट भेद हैं

    5 स्तूप निर्माण

    6 मौर्य काल वास्तु कला

    7 लोक कला

    8 गुहा वास्तु(वास्तु कला)

    9 छठा शिलालेख

    10 राजकीय व्यय को विभिन्न वर्गों में रखा जा सकता है

    11 यह भी देखिये 12 सन्दर्भ

    राजकीय कला[संपादित करें]

    राजकीय कला का सबसे पहला उदाहरण चंद्रगुप्त का प्रासाद है, जिसका विशद वर्णन एरियन ने किया है। उसके अनुसार राजप्रासाद की शान—शौक़त का मुक़ाबला न तो सूसा और न एकबेतना ही कर सकते हैं। यह प्रासाद सम्भवतः वर्तमान पटना के निकट कुम्रहार गाँव के समीप था। कुम्रहार की खुदाई में प्रासाद के सभा—भवन के जो अवशेष प्राप्त हुए हैं उससे प्रासाद की विशालता का अनुमान लगाया जा सकता है। यह सभा—भवन खम्भों वाला हाल था। सन् 1914—15 की खुदाई तथा 1951 की खुदाई में कुल मिलाकर 40 पाषाण स्तंभ मिले हैं, जो इस समय भन्न दशा में हैं। इस सभा—भवन का फ़र्श और छत लकड़ी के थे। भवन की लम्बाई 140 फुट और चौड़ाई 120 फुट है। भवन के स्तंभ बलुआ पत्थर के बने हुए हैं और उनमें चमकदार पालिश की गई थी। फ़ाह्यान ने अत्यन्त भाव—प्रवण शब्दों में इस प्रासाद की प्रशंसा की है। उसके अनुसार, "यह प्रासाद मानव कृति नहीं है वरन् देवों द्वारा निर्मित है। प्रासाद के स्तंभ पत्थरों से बने हुए हैं और उन पर सुन्दर उकेरन और उभरे चित्र बने हैं।"फ़ाह्यान के वृत्तान्त से पता चलता है कि अशोक के समय इस भवन का विस्तार हुआ।

    [3]

    मेगस्थनीज के अनुसार मौर्य कला[संपादित करें]

    मेगस्थनीज़ के अनुसार पाटलिपुत्र, सोन और गंगा के संगम पर बसा हुआ था। नगर की लम्बाई 9-1/2 मील और चौड़ाई 1-1/2 मील थी। नगर के चारों ओर लकड़ी की दीवार बनी हुई थी जिसके बीच—बीच में तीर चलाने के लिए छेद बने हुए थे। दीवार के चारों ओर एक ख़ाई थी जो 60 फुट गहरी और 600 फुट चौड़ी थी। नगर में आने—जाने के लिए 64 द्वार थे। दीवारों पर बहुत से बुर्ज़ थे जिनकी संख्या 570 थी। पटना में गत वर्षों में जो खुदाई हुई उससे काष्ठ निर्मित दीवार के अवशेष प्राप्त हुए हैं। 1920 में बुलंदीबाग़ की खुदाई में प्राचीर का एक अंश उपलब्ध हुआ है, जो लम्बाई में 150 फुट है। लकड़ी के खम्बों की दो पंक्तियाँ पाई गई हैं। जिनके बीच 14-1/2 फुट का अंतर है। यह अंतर लकड़ी के स्लीपरों से ढका गया है। खम्भों के ऊपर शहतीर जुड़े हुए हैं। खम्भों की ऊँचाई ज़मीन की सतह से 12-1/2 फुट है और ये ज़मीन के अन्दर 5 फुट गहरे गाड़े गए थे। यूनानी लेखकों ने लिखा है कि नदी—तट पर स्थित नगरों में प्रायः काष्ठशिल्प का उपयोग होता था। पाटलिपुत्र की भी यही स्थिति थी। सभा—मंडप में शिला—स्तंभों का प्रयोग एक नई प्रथा थी।

    मौर्यकाल के सर्वोत्कृष्ट नमूने, अशोक के एकाश्मक स्तंभ हैं जोकि उसने धम्म प्रचार के लिए देश के विभिन्न भागों में स्थापित किए थे। इनकी संख्या लगभग 20 है और ये चुनार (बनारस के निकट) के बलुआ पत्थर के बने हुए हैं। लाट की ऊँचाई 40 से 50 फुट है। चुनार की खानों से पत्थरों को काटकर निकालना, शिल्पकला में इन एकाश्मक खम्भों को काट—तराशकर वर्तमान रूप देना, इन स्तंभों को देश के विभिन्न भागों में पहुँचाना, शिल्पकला तथा इंजीनियरी कौशल का अनोखा उदाहरण है। इन स्तंभों के दो मुख्य भाग उल्लेखनीय हैं—(1) स्तंभ यष्टि या गावदुम लाट (tapering shaft) और शीर्ष भाग। शीर्ष भाग के मुख्य अंश हैं घंटा, जोकि अखमीनी स्तंभों के आधार के घंटों से मिलते—जुलते हैं। भारतीय विद्वान इसे अवांगमुखी कमल कहते हैं। इसके ऊपर गोल अंड या चौकी है। कुछ चौकियों पर चार पशु और चार छोटे चक्र अंकित हैं (जैसे सारनाथ स्तंभ शीर्ष की चौकी पर) तथा कुछ पर हंसपक्ति अंकित है। चौकी पर सिंह, अश्व, हाथी तथा बैल आसीन हैं। रामपुर में नटुवा बैल ललित मुद्रा में खड़ा है। सारनाथ के शीर्ष स्तंभ पर चार सिंह पीठ सटाए बैठे हैं। ये चार सिंह एक चक्र धारण किए हुए हैं। यह चक्र बुद्ध द्वारा धर्म—चक्र—प्रवर्तन का प्रतीक है। अशोक के एकाश्मक स्तंभों का सर्वोत्कृष्ट नमूना सारनाथ के सिहंस्तंभ का शीर्षक है। मौर्य शिल्पियों के रूपविधान का इससे अच्छा दूसरा नमूना और कोई नहीं है। ऊपरी सिंहों में जैसी शक्ति का प्रदर्शन है, उनकी फूली नसों में जैसी स्वाभाविकता है और उनके नीचे उकेरी आकृतियों में जो प्राणवान वास्तविकता है, उसमें कहीं भी आरम्भिक कला की छाया नहीं है। शिल्पों ने सिंहों के रूप को प्राकृतिक सच्चाई से प्रकट किया है।

    स्रोत : hi.wikipedia.org

    आक्रामक और कलात्मक शैली में क्या अंतर है?

    जवाब: आक्रामक और कलात्मक शैली जीवन के हर पहलू में परिलक्षित होती है- चाहे वह जीवन शैली हो या युद्ध या राजनीति । कुछ उदाहरणों से यह अंतर समझा जा सकता है। जीवन शैली:- आक्रामक शैली को जीने वाला व्यक्ति जिस बात से वह असहमत होता है उस पर आग-बबूला होता है जबकि कलात्मक शैली का व्यक्ति Dale Carnegie के ...

    आक्रामक और कलात्मक शैली में क्या अंतर है?

    छांटें M M Vyas

    वकील (1969–मौजूदा)लेखक ने 376 जवाब दिए हैं और उनके जवाबों को 1.1 लाख बार देखा गया है1वर्ष

    आक्रामक और कलात्मक शैली जीवन के हर पहलू में परिलक्षित होती है- चाहे वह जीवन शैली हो या युद्ध या राजनीति । कुछ उदाहरणों से यह अंतर समझा जा सकता है।

    जीवन शैली:- आक्रामक शैली को जीने वाला व्यक्ति जिस बात से वह असहमत होता है उस पर आग-बबूला होता है जबकि कलात्मक शैली का व्यक्ति Dale Carnegie के शब्दों में To be a good orator should be a good listener.

    युद्ध:- आक्रामक शैली का योद्धा आपने सामने की लड़ाई लड़ता है जैसेकि महाराणा प्रताप थे जबकि कलात्मक शैली का योद्धा अपनी ताक़त को पहचान कर शत्रु पर ओट में रह कर वार करता है। मराठी में जिसे गनिमी कावा कहते है और हिंदी में गोरिल्ला युद्ध जिसके शिवाजी महाराज विशेषण थे।

    राजनीति:- स्वाधीनता आंदोलन की बात करेंगे। महात्मा गांधी कलात्मक शैली के प्रवक्ता थे जबकि नेताजी सुभाषचंद्र बोस आक्रामक शैली के पक्षधर थे। सन १९४२ में गांधीजी ने अंग्रेजों भारत छोड़ो का नारा दिया था जबकि नेताजी ने चलो दिल्ली का। भारत छोड़ो में जो कुछ करना था वह अंग्रेजों को याने उन्हें भारत छोड़ना था । यह आंदोलन की कलात्मक शैली हुई। दिल्ली चलों में आक्रामकका है क्योंकि इसमें देशवासियों को दिल्ली चल कर सत्ता हथियाने का आह्वान है- यह आक्रामक शैली थी।

    802 बार देखा गया Ehsan Ali

    ने जवाब का अनुरोध किया है

    अवधेश

    चरैवेति- चरैवेतिलेखक ने 1.4 हज़ार जवाब दिए हैं और उनके जवाबों को 1.2 क॰ बार देखा गया है2वर्ष

    संबंधित

    आपके द्वारा देखी गई सबसे रचनात्मक कलाकृति क्या है?

    अभी हाल ही में जब मैं गुजरात और साउथ राजस्थान की ट्रिप पर था तब मैंने कई मंदिर देखे , जिनमे से बहुत से मंदिरों में फोटोग्राफी की इजाज़त नहीं थी कुछ में थी वहीं की कुछ तस्वीरें पेश कर रहा हूं

    उदयपुर , सिटी पैलेस संग्रहालय

    युवा परिचारक ( 7 वीं सदी की मूर्ति )

    युवा परिचायका ( 7 वीं सदी )

    महिषासुर मर्दिनी

    चंद्रभागा मंदिर , झालावाड़

    👉 मैं जब भी प्राचीन भारत की मूर्तिकला देखता हूं तो चकाचौंध सा हो जाता हूं कभी कभी ये विश्वास करना मुश्किल होता है की बिना मशीन के इंसानी हाथों से ऐसा करिश्मा कैसे मुमकिन हो सकता है । ये मूर्ति हमारी समृद्ध विरासत और संस्कृति का जीता जागता उदाहरण हैं

    👉 ये तो चंद नमूने हैं मैंने

    Prasaad

    H.N.B.G.U.CENTERAL UNIVERSITY GARHWAL UTTRAKHAND से Graduate (2015 में स्नातक)1वर्ष

    संबंधित

    डिंगल और पिंगल शैली में क्या अंतर है?

    पश्चिमी राजस्थानी भाषा का वह साहित्यिक रूप जो गुजराती से साम्यता रखता है एवं जिसे चारणों द्वारा साहित्यिक लेखन में काम लिया गया, डिंगल शैली के रूप में जाना जाता है। इसे मरु भाषा भी कहते हैं।

    पूर्वी राजस्थानी भाषा का वह साहित्यिक रूप जो ब्रज भाषा से प्रभावित है तथा जो भाटों द्वारा साहित्य लेखन में काम ली गई, पिंगल शैली के रूप में मानी जाती है।

    प्रज्ञा पाठक

    शिक्षिका लेखक ने 998 जवाब दिए हैं और उनके जवाबों को 1.1 क॰ बार देखा गया है2वर्ष

    संबंधित

    आपके द्वारा देखी गई सबसे रचनात्मक कलाकृति क्या है?

    प्राचीन भारत का इंजीनियरिंग चमत्कार।

    इस मंदिर में एक अलंगर मंडप में चार संगीतमय स्तंभ हैं। ये अनोखे स्तंभ एक ही चट्टान से बने हैं, लेकिन इनसे मृदंग, सितार, जलतरंग तथा तंबूरे की अलग-अलग ध्वनि गुंजित होती है। पहले पूजा-अर्चना के समय इन्हीं स्तंभों से संगीत उत्पन्न किया जाता था।

    यह मूर्तिकला, स्तंभों में से एक में संगीत का एक खिलाड़ी है। कलात्मक कार्य के अलावा कौशल का स्तर उल्लेखनीय है। 0.5 मिमी व्यास से कम की पतली छड़ी को एक कान के माध्यम से भेजा जा सकता है और दूसरे कान से बाहर पहुंच सकता है। आवश्यक सहिष्णुता के स्तर की कल्पना करें। 0.5 मिमी से कम का छेद, 400 माइक्रोन से अधिक के लिए छेदा, 20 माइक्

    मो. हमजा हुसैन

    बिहार, भारत में निवास है (2004–मौजूदा)लेखक ने 708 जवाब दिए हैं और उनके जवाबों को 23.1 लाख बार देखा गया है9माह

    संबंधित

    चित्रकला की 'अटपटी पगड़ी', शैली क्या है?

    मारवाड़ में पहनी जाने वाली पगड़ी मेवाड़ की पगड़ी से आकार में बड़ी और ऊँची होती है। पगड़ी का वास्तविक संरक्षक मुगल सम्राट अकबर को माना जाता है। अकबर के समय में मेवाड़ में ईरानी पद्धति की 'अटपटी' पगड़ी का प्रचलन था।

    ममता भट्टाचार्य

    A nomadic soul connected to the vibrations aroundलेखक ने 547 जवाब दिए हैं और उनके जवाबों को 14.7 लाख बार देखा गया है3वर्ष

    संबंधित

    गोथिक शैली क्या होती है?

    गोथिक वास्तुकला एक वास्तुशिल्प शैली है जो यूरोप में उच्च और देर मध्य युग के दौरान विकसित हुई।

    गोथिक शैली की विशेषता थी कि इसमें रिब्‍ड वॉल्‍ट्स, पत्‍थरों की संरचनाएं और निर्देशित मेहराब थे। इस वास्‍तुकला की शैली में कई शानदार महल, टाउन हॉल, किले और अन्‍य संरचनाओं को निर्माण भी किया गया था।

    यह रोमनस्क वास्तुकला से विकसित हुआ और पुनर्जागरण वास्तुकला द्वारा सफल हुआ। 12 वीं शताब्दी में फ्रांस की शुरुआत और 16 वीं शताब्दी में, गोथिक वास्तुकला को गोथिक शब्द के साथ पहली बार पुनर्जागरण के बाद के दौरान दिखाई देने वाले ओपस फ़्रैंकिगेनम (“फ्रेंच काम”) के दौरान जाना जाता था। इसकी विशेषताओं में नुकीले आर्क, र

    स्रोत : hi.quora.com

    सजावटी कला – HiSoUR कला संस्कृति का इतिहास

    HISOUR कला संस्कृति का इतिहास

    HISOUR कला संस्कृति का इतिहास आभासी दौरे, कलाकृति प्रदर्शनी, डिस्कवरी इतिहास, वैश्विक सांस्कृतिक ऑनलाइन

    सजावटी कला

    सजावटी कलाएं कला या शिल्प हैं जो सुंदर वस्तुओं के डिजाइन और निर्माण से संबंधित हैं जो कार्यात्मक भी हैं। इसमें आंतरिक डिजाइन शामिल है, लेकिन आमतौर पर वास्तुकला नहीं। सजावटी कलाएं आलंकारिक कलात्मक विषयों की एक श्रृंखला हैं जो पारंपरिक रूप से उपयोग की वस्तुओं के निर्माण और सजावट से जुड़ी हुई हैं, जैसा कि ललित कला (पेंटिंग, मूर्तिकला, ड्राइंग, उत्कीर्णन, फोटोग्राफी और मोज़ेक) के विपरीत है, कलाकृतियां बनाने का इरादा है, जिनकी एकमात्र विशेषता यह है इसके बजाय सौंदर्य चिंतन। इस क्षेत्र में आंतरिक डिजाइन और आंतरिक डिजाइन के सभी शिल्प शामिल हैं, जैसे कि फर्नीचर और सामान।

    सजावटी कलाओं को अक्सर मध्यम या तकनीक द्वारा सूचीबद्ध किया जाता है। उनमें से हम सुनारों का उल्लेख कर सकते हैं, तांत्रिकों, ग्लिसेप्टिक, सिरेमिक कला, लघु, सना हुआ ग्लास और अन्य कांच की वस्तुओं, एनामेल्स, नक्काशी, जड़ना, कैबिनेट बनाना, सिक्कों और पदक की बुनाई, बुनाई और कढ़ाई का उल्लेख कर सकते हैं। , औद्योगिक डिजाइन, सामान्य रूप में सजावट। इसमें अक्सर ग्राफिक कला (उत्कीर्णन) और लघु शामिल होते हैं, साथ ही साथ अलंकरण के उद्देश्य से वास्तुकला, चित्रकला और मूर्तिकला के कुछ कार्य और श्रृंखला में कल्पना की जाती है, व्यक्तिगत कार्यों के रूप में नहीं।

    सजावटी कला और सुंदर कला के बीच का अंतर कार्यक्षमता, इरादों, महत्व, एकल काम या एक कलाकार से संबंधित उत्पादन की स्थिति के आधार पर सबसे ऊपर है। सजावटी कला उत्पादों, या सामान, मोबाइल (जैसे दीपक) या स्थिर (जैसे वॉलपेपर) हो सकते हैं।

    सजावटी कलाएं कला के इतिहास के सभी अवधियों में या तो एकान्त या अन्य कलाओं, विशेषकर वास्तुकला के संयोजन में अधिक या कम हद तक मौजूद हैं। कई मामलों में उन्होंने एक निश्चित ऐतिहासिक अवधि को चिह्नित किया है, जैसे कि बीजान्टिन, इस्लामी या गोथिक कला, इस तरह से कि इस प्रकार के काम की उपस्थिति के बिना पर्याप्त रूप से इसका आकलन करना संभव नहीं होगा। अन्य मामलों में, विशेष रूप से खानाबदोश संस्कृतियों की, यह इन लोगों द्वारा की गई एकमात्र प्रकार की कलात्मक उपलब्धि है, जैसा कि सीथियन या जर्मनिक लोगों का मामला है जिन्होंने रोमन साम्राज्य पर आक्रमण किया था। कई संस्कृतियों में सजावटी कलाओं को बाकी कलाओं के समान दर्जा दिया गया है, जैसा कि ग्रीक सिरेमिक या चीनी लाह के मामले में है। यह सजावटी कला और लोकप्रिय संस्कृति के बीच घनिष्ठ संबंध को भी ध्यान देने योग्य है, जो अक्सर इस माध्यम में अभिव्यक्ति का मुख्य साधन रहा है।

    सजावटी कलाएं कला या शिल्प से संबंधित वे सभी गतिविधियां हैं जो एक उद्देश्य और सजावटी दोनों के उद्देश्य से वस्तुओं का उत्पादन करने के लिए डिज़ाइन की गई हैं। वे आम तौर पर एक औद्योगिक या कारीगर उत्पादन के साथ किए गए काम हैं, लेकिन एक निश्चित सौंदर्य उद्देश्य का पीछा करते हैं। अवधारणा तथाकथित लागू कला या औद्योगिक कलाओं का पर्याय है, जिसे कभी-कभी प्रमुख कला या ललित कला के विपरीत छोटी कला भी कहा जाता है। एक निश्चित अर्थ में, सजावटी कला एक शब्द है जिसे औद्योगिक कलाओं के साथ-साथ चित्रकला और मूर्तिकला पर भी लागू किया जाता है, जब इसका उद्देश्य एक अनूठा और विभेदित कार्य उत्पन्न करना नहीं होता है, बल्कि वे एक सजावटी और सजावटी उद्देश्य की तलाश करते हैं। आम तौर पर धारावाहिक निर्माण।

    सजावटी और ललित कलाओं के बीच का अंतर अनिवार्य रूप से पश्चिम के पुनर्जागरण कला से उत्पन्न हुआ है, जहां सबसे अधिक भाग सार्थक के लिए है। अन्य संस्कृतियों और अवधियों की कला पर विचार करते समय यह अंतर बहुत कम सार्थक है, जहां सबसे उच्च माना जाने वाला कार्य – या यहां तक ​​कि सभी काम करता है – सजावटी मीडिया में उन लोगों को शामिल करें। उदाहरण के लिए, कई काल और स्थानों में इस्लामिक कला में पूरी तरह से सजावटी कलाएं शामिल हैं, जो अक्सर ज्यामितीय और पौधों के रूपों का उपयोग करती हैं, जैसा कि कई पारंपरिक संस्कृतियों की कला है। सजावटी और ललित कलाओं के बीच अंतर चीनी कला की सराहना करने के लिए बहुत उपयोगी नहीं है, और न ही यह यूरोप में प्रारंभिक मध्यकालीन कला को समझने के लिए है। यूरोप में उस अवधि में, पांडुलिपि रोशनी और स्मारकीय मूर्तिकला जैसी ललित कलाएं मौजूद थीं, लेकिन सबसे प्रतिष्ठित काम सुनार के काम में, कांस्य जैसे कास्ट धातु में, या अन्य तकनीकों जैसे कि आइवरी नक्काशी में किया जाता था। बड़े पैमाने पर दीवार-चित्रों को बहुत कम माना जाता था, crudely निष्पादित, और समकालीन स्रोतों में शायद ही कभी उल्लेख किया गया था। उन्हें संभवतः मोज़ेक के लिए एक अवर विकल्प के रूप में देखा गया था, जिसे इस अवधि के लिए एक अच्छी कला के रूप में देखा जाना चाहिए, हालांकि हाल के सदियों में मोज़ाइक को सजावटी के रूप में देखा जा सकता है। शब्द “आरएस सैक्रा” (“पवित्र कला”) का उपयोग कभी-कभी धातु, हाथी दांत, वस्त्र और अन्य उच्च-मूल्य की सामग्री में किए गए मध्ययुगीन ईसाई कला के लिए किया जाता है, लेकिन उस अवधि से दुर्लभ धर्मनिरपेक्ष कार्यों के लिए नहीं।

    संकल्पना:

    सजावटी कला तकनीक कला (ativeνé téchn,) की अवधारणा के भीतर आती है, मनुष्य की एक रचनात्मक अभिव्यक्ति जिसे आम तौर पर किसी सौंदर्य या संप्रेषणीय उद्देश्य के साथ किया जाता है, जिसके माध्यम से विचारों, भावनाओं या, सामान्य रूप से, एक दृष्टि के रूप में समझा जाता है। दुनिया विभिन्न संसाधनों और सामग्रियों के माध्यम से व्यक्त की जाती है। कला संस्कृति का एक घटक है, जो अपनी अवधारणा में आर्थिक और सामाजिक सब्सट्रेट्स को दर्शाता है, साथ ही साथ अंतरिक्ष और समय के दौरान किसी भी मानव संस्कृति में निहित विचारों और मूल्यों के संचरण को दर्शाता है।

    कला के वर्गीकरण में कला की अवधारणा के समानांतर एक विकास हुआ है: शास्त्रीय पुरातनता के दौरान कला को सभी प्रकार के मैनुअल कौशल और निपुणता माना जाता था, एक तर्कसंगत प्रकार और नियमों के अधीन, ताकि वर्तमान ललित कला उस संप्रदाय में आए। शिल्प और विज्ञान के रूप में दूसरी शताब्दी में गैलेन ने कला को उदार कला और अश्लील कलाओं में विभाजित किया, चाहे उनके अनुसार एक बौद्धिक या मैनुअल मूल था। पुनर्जागरण में, वास्तुकला, चित्रकला और मूर्तिकला को ऐसी गतिविधियाँ माना जाता था जिसके लिए न केवल शिल्प और कौशल की आवश्यकता होती थी, बल्कि एक प्रकार की बौद्धिक अवधारणा भी होती थी जो उन्हें अन्य प्रकार के शिल्पों से श्रेष्ठ बनाती थी। 1746 में, चार्ल्स बैटेक्स ने ललित कलाओं को कम किया। एक ही सिद्धांत ललित कलाओं की वर्तमान अवधारणा है, जहां इसमें चित्रकला, मूर्तिकला, संगीत, कविता और नृत्य शामिल हैं, जबकि बाकी कलात्मक गतिविधियों के लिए “मैकेनिकल आर्ट्स” शब्द को बनाए रखा गया है, और दोनों श्रेणियों के बीच की गतिविधियों को वास्तुकला के रूप में जाना जाता है। समय के साथ इस सूची में भिन्नताएं आईं और आज तक, यह पूरी तरह से बंद नहीं हुआ है, लेकिन सामान्य तौर पर यह आमतौर पर स्वीकृत आधार निर्धारित करता है।

    स्रोत : www.hisour.com

    Do you want to see answer or more ?
    Mohammed 10 day ago
    4

    Guys, does anyone know the answer?

    Click For Answer