if you want to remove an article from website contact us from top.

    uttarakhand vidhansabha mein anusuchit janjati ke liye kitni seaten aarakshit hai

    Mohammed

    Guys, does anyone know the answer?

    get uttarakhand vidhansabha mein anusuchit janjati ke liye kitni seaten aarakshit hai from screen.

    उत्तराखंड विधानसभा सीटों का विवरण

    उत्तराखंड में विधानसभा सीटों की कुल संख्या 70 है, जिनमें से 15 सीटों को अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) व अनुसूचित जनजाति (Scheduled Tribes) के लिए आरक्षित किया गया है। अनुसूचित जाति (S.C) के लिए आरक्षित – 13 सीट अनुसूचित जनजाति (S.T) के लिए आरक्षित – 2 सीट देहरादून (Dehradun)  देहरादून जनपद में विधानसभा सीटों की संख्या 10 है, जिनमें से एक-एक सीट अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) व अनुसूचित जनजाति (Scheduled Tribes) के लिए आरक्षित है। विकास नगर, धरमपुर, देहरादून, राजपुर (S.C के लिए आरक्षित), मंसूरी, ऋषिकेश, रायपुर, डोईवाला, सहसपुर एवं चकराता (S.T के लिए आरक्षित) हरिद्वार (Haridwar) उत्तराखंड के हरिद्वार जनपद में सर्वाधिक विधानसभा

    UTTARAKHAND G.S

    उत्तराखंड विधानसभा सीटों का विवरण

    FEBRUARY 24, 2021 8 MINS READ

    उत्तराखंड में विधानसभा सीटों की कुल संख्या 70 है, जिनमें से 15 सीटों को अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) व अनुसूचित जनजाति (Scheduled Tribes) के लिए आरक्षित किया गया है।

    अनुसूचित जाति (S.C) के लिए आरक्षित – 13 सीट

    अनुसूचित जनजाति (S.T) के लिए आरक्षित – 2 सीट

    देहरादून (Dehradun) 

    देहरादून जनपद में विधानसभा सीटों की संख्या 10 है, जिनमें से एक-एक सीट अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) व अनुसूचित जनजाति (Scheduled Tribes) के लिए आरक्षित है।

    विकास नगर, धरमपुर, देहरादून, राजपुर (S.C के लिए आरक्षित), मंसूरी, ऋषिकेश, रायपुर, डोईवाला, सहसपुर एवं चकराता (S.T के लिए आरक्षित)

    हरिद्वार (Haridwar)

    उत्तराखंड के हरिद्वार जनपद में सर्वाधिक विधानसभा सीटों की संख्या 11 है, जिनमें से 3 सीट अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) के लिए आरक्षित है।

    रुड़की, पिरानकलियर, मंगलौर, भेल, लक्सर, खानपुर, हरिद्वार, हरिद्वार ग्रामीण

    अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) के लिए आरक्षित – ज्वालापुर, झबरेड़ा, भगवानपुर

    टिहरी गढ़वाल (Tehri Garhwal)

    टिहरी जनपद में विधानसभा सीटों की संख्या 6 है, जिनमें से एक सीट अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) के लिए आरक्षित है।

    टिहरी, धंसाली (S.C के लिए आरक्षित), देवप्रयाग, नरेंद्रनगर, प्रतापनगर एवं धनोल्टी।

    पौढ़ी गढ़वाल (Pauri Garhwal)

    पौढ़ी गढ़वाल जनपद में विधानसभा सीटों की संख्या 6 है, जिनमें से 2 सीटअनुसूचित जाति (Scheduled Castes) के लिए आरक्षित है।

    यमकेश्वर, कोटद्वार, चौपट्टाखाल, लैंसडाउन

    अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) के लिए आरक्षित – पौड़ी एवं श्रीनगर

    नैनीताल (Nainital)

    नैनीताल जनपद में विधानसभा सीटों की संख्या 6 है, जिनमें से 1 सीट अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) के लिए आरक्षित है।

    लालकुआँ, हल्द्वानी, नैनीताल (S.C के लिए आरक्षित), रामनगर, भीमताल एवं कालाढूंगी।

    पिथौरागढ़ (Pithoragarh)

    पिथौरागढ़ जनपद में विधानसभा सीटों की संख्या 4 है, जिनमें से 1 सीट अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) के लिए आरक्षित है।

    डीडीहाट, पिथौरागढ़, गंगोलीहाट (S.C के लिए आरक्षित) एवं धारचूला

    अल्मोड़ा (Almora)

    अल्मोड़ा जनपद में विधानसभा सीटों की संख्या 6 है, जिनमें से 1 सीट अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) के लिए आरक्षित है।

    द्वारहाट, सल्ट, रानीखेत, अल्मोड़ा, जोगेश्वर एवं सोमेश्वर (S.C के लिए आरक्षित)

    ऊधम सिंह नगर (Udham Singh Nagar)

    ऊधम सिंह नगर जनपद में विधानसभा सीटों की संख्या 9 है, जिनमें से एक-एक सीट अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) व अनुसूचित जनजाति (Scheduled Tribes) के लिए आरक्षित है।

    जसपुर, काशीपुर, बाजपुर (S.C के लिए आरक्षित), खमीटा, गदरपुर, रुद्रपुर, किच्छा , सितारगंज एवं नानकमत्ता (S.T के लिए आरक्षित)

    चमोली (Chamoli)

    चमोली जनपद में विधानसभा सीटों की संख्या 3 है, जिनमें से 1 सीट अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) के लिए आरक्षित है।

    बद्रीनाथ, कर्णप्रयाग, एवं थराली (S.C के लिए आरक्षित)

    चंपावत (Champawat)

    चंपावत जनपद में विधानसभा सीटों की संख्या 2 है –

    चंपावत, एवं लोहाघाट।

    बागेश्वर (Bageshwar)

    बागेश्वर जनपद में विधानसभा सीटों की संख्या 2 है, जिनमें से 1 सीट अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) के लिए आरक्षित है।

    कपकोट एवं बागेश्वर (S.C के लिए आरक्षित)

    रुद्रप्रयाग (Rudraprayag)

    रुद्रप्रयाग जनपद में विधानसभा सीटों की संख्या 2 है –

    रुद्रप्रयाग एवं केदारनाथ।

    उत्तरकाशी (Uttarkashi)

    उत्तरकाशी जनपद में विधानसभा सीटों की संख्या 3 है, जिनमें से 1 सीट अनुसूचित जाति (Scheduled Castes) के लिए आरक्षित है।

    गंगोत्री, यमुनोत्री एवं पुरोला (S.C के लिए आरक्षित)

    1 COMMENT

    http://readingbell.com/95-development-blocks-of-uttarakhand-state/

    Reply

    LEAVE A REPLY

    Recent Posts

    UKPSC Police Constable/PAC/IRB/Agnishamak Exam Solved Paper – 18 Dec. 2022

    A Detailed Subject-wise UPPSC PCS 2022 Prelims Analysis

    UPSSSC UP राजस्व लेखपाल/(Revenue Lekhpal) Mains Exam – 31 July 2022 (Answer Key)

    MPPSC PCS Prelims Exam Answer Key – 19 June 2022 (General Studies)

    UPPSC PCS Prelims Exam Answer Key 12 June 2021: Paper 1

    Recent Comments

    LATEST FROM BLOG

    UKPSC Police Constable/PAC/IRB/Agnishamak Exam Solved Paper – 18 Dec. 2022

    उत्तराखंड लोक सेवा आयोग (Uttarakhand Public Service Commission) द्वारा 18 December 2022 को Uttarakhand Police Constable/ PAC/ IRB/ Agnishamak परीक्षा…

    A Detailed Subject-wise UPPSC PCS 2022 Prelims Analysis

    The Uttar Pradesh Public Service Commission conducts the Uttar Pradesh Combined State/Upper Subordinate Exam (UPPSC). UPPCS…

    UPSSSC UP राजस्व लेखपाल/(Revenue Lekhpal) Mains Exam – 31 July 2022 (Answer Key)

    Uttar Pradesh Subordinate Services Selection Commission (UPSSSC) द्वारा आयोजित UP राजस्व लेखपाल Mains exam का आयोजन…

    MPPSC PCS Prelims Exam Answer Key – 19 June 2022 (General Studies)

    MPPSC (Madhya Pradesh Public Service Commission) द्वारा आयोजित प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Examination) – 2022 का हल …

    UPPSC PCS Prelims Exam Answer Key 12 June 2021: Paper 1

    Uttar Pradesh लोक सेवा आयोग (UPPSC) द्वारा UP PCS Prelims Exam का आयोजन 12 June 2021 को दो पालियों…

    स्रोत : readingbell.com

    Uttarakhand Chunav 2022 : उत्तराखंड में सर्वाधिक जागरूक हैं अनुसूचित जनजाति की आरक्षित सीटों के मतदाता

    Uttarakhand Vidhan Sabha Chunav 2022 बात आखिर सरकार चुनने की है। सही चुनने की है। इस सही-गलत के फेर में अनुसूचित जनजाति (एसटी) के लिए आरक्षित विधानसभा सीटों के मतदाता सामान्य व अनुसूचित जाति (एससी) सीटों के वोटरों से कहीं ज्यादा जागरूक हैं।

    Uttarakhand Chunav 2022 : उत्तराखंड में सर्वाधिक जागरूक हैं अनुसूचित जनजाति की आरक्षित सीटों के मतदाता

    Prashant MishraPublish Date: Sat, 08 Jan 2022 08:45 AM (IST)Updated Date: Sat, 08 Jan 2022 08:45 AM (IST)

    Google News Facebook twitter wp K00 ;

    Uttarakhand Vidhan Sabha Chunav 2022 बात आखिर सरकार चुनने की है। सही चुनने की है। इस सही-गलत के फेर में अनुसूचित जनजाति (एसटी) के लिए आरक्षित विधानसभा सीटों के मतदाता सामान्य व अनुसूचित जाति (एससी) सीटों के वोटरों से कहीं ज्यादा जागरूक हैं।

    अभिषेक राज, हल्द्वानी। प्रदेश पांचवें विधानसभा चुनाव के मोड में है। ऐसे में निर्वाचन आयोग का जोर मतदान प्रतिशत बढ़ाने पर रहेगा। इसके लिए जागरूकता और समृद्ध प्रदेश के लिए सकारात्मक सोच जरूरी है। बात आखिर सरकार चुनने की है। सही चुनने की है। इस सही-गलत के फेर में अनुसूचित जनजाति (एसटी) के लिए आरक्षित विधानसभा सीटों के मतदाता सामान्य व अनुसूचित जाति (एससी) सीटों के वोटरों से कहीं ज्यादा जागरूक हैं। पहले से लेकर चौथे विधानसभा तक इनका मत प्रतिशत मतदान के प्रति इनकी जागरूकता को बयां करता है।

    वीकेंड पर पड़ा Christmas तो गुलजार हुए उत्‍तराखंड के पर्यटन स्‍थल, नैनीताल में जुटी सैलानियों की भीड़

    यह भी पढ़ें

    बात राज्य गठन के बाद 2002 के पहले चुनाव की करें तो इसमें 55 सीटें सामान्य रहीं। 12 विधानसभा सीटों को अनुसूचित जाति के लिए तो तीन को अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित किया गया। सामान्य सीटों पर कुल 53.68 प्रतिशत मतदान हुआ। वहीं, एससी पर 56.39 व एसटी सीटों पर सर्वाधिक 59.91 प्रतिशत वोटरों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। वर्ष 2007 के दूसरे चुनाव की तस्वीर भी कुछ यही रही। इसमें भी 66.30 प्रतिशत मतदान के साथ एसटी आरक्षित सीटों ने बढ़त बनाए रखी। 2012 के तीसरे चुनाव में तो मत प्रतिशत बढ़कर 75.07 तक पहुंच गया। 2017 के चौथे चुनाव में मत प्रतिशत भले ही कम हुआ लेकिन इस बार भी एसटी के लिए आरक्षित सीट 74.60 प्रशित मतदान के साथ अव्वल रहे।

    Tiger Attack : रामनगर में स्‍कूटी सवार युवक को घसीट ले गया बाघ, बाल-बाल बचे दो साथी

    यह भी पढ़ें

    2002 का मत प्रतिशत 

    सामान्य सीट   एससी   एसटी  कुल

    53.68     56.39  59.91  54.34

    मतदान में भागीदारी 

    सामान्य सीट पुरुष         महिला 1207748  1082138 एससी 240333    207323 एसटी 69903     56441

    Corona Alert : अब उत्‍तराखंड की अदालतों में मास्क बिना प्रवेश पर पाबंदी, सामाजिक दूरी का भी करना होगा पालन

    यह भी पढ़ें

    2007 का मत प्रतिशत 

    सामान्य सीट एससी   एसटी  कुल

    58.43     63.23   66.30  59.50

    मतदान में भागीदारी सामान्य सीट

    पुरुष          महिला

    1438662    1416839 एससी

    304353        290434

    एसटी 88664        80171

    Student Union Election : कुमाऊं में एबीवीपी का परचम, निर्दलों का भी बजा डंका

    यह भी पढ़ें

    2012 का मत प्रतिशत 

    सामान्य सीट   एससी   एसटी कुल

    67.02         64.84   75.07      66.85

    मतदान में भागीदारी सामान्य सीट

    पुरुष          महिला

    1704582      1636694

    एससी 383830       362018 एसटी

    71089           61481

    Student Union Election : हल्‍द्वानी के एमबीपीजी में बना इतिहास, पहली बार महिला प्रत्याशी के सिर सजा ताज

    यह भी पढ़ें

    2017 का मत प्रतिशत   

    सामान्य सीट एससी   एसटी    कुल

    65.56      64.39    74.60  65.60

    मतदान में भागीदारी सामान्य सीट

    पुरुष              महिला

    1937154         1971600

    एससी

    425870             434294

    एसटी

    80343                73586

    Edited By: Prashant Mishra

    जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट

    Facebook Twitter YouTube Google News Download App और पढ़ें

    स्रोत : www.jagran.com

    Uttarakhand Election 2022: राज्य बनने के बाद से अब तक एससी

    उत्तराखंड में बीते चार विधानसभा चुनाव की तरह इस बार भी अनुसूचित जाति और जनजाति के मतदाता महत्वपूर्ण भूमिका निभाने

    Uttarakhand Election 2022: राज्य बनने के बाद से अब तक एससी-एसटी वर्ग ने हर चुनाव में किया सर्वाधिक मतदान 

    विनोद मुसान, अमर उजाला, देहरादून Published by: Nirmala Suyal Nirmala Suyal Updated Sat, 05 Feb 2022 12:22 PM IST

    सार

    प्रदेश की वर्ष 2021 की अनुमानित जनसंख्या के अनुसार अनुसूचित जाति की जनसंख्या 22 लाख और अनुसूचित जनजाति के मतदाताओं की जनसंख्या 3.38 लाख के आसपास है। इस तरह यह आंकड़ा 25 लाख से अधिक बैठता है।

    चुनाव - फोटो : सोशल मीडिया

    ; विज्ञापन ख़बर सुनें

    विस्तार

    उत्तराखंड में बीते चार विधानसभा चुनाव की तरह इस बार भी अनुसूचित जाति और जनजाति के मतदाता महत्वपूर्ण भूमिका निभाने जा रहे हैं। बात जब अपने मताधिकार का प्रयोग कर सरकार चुनने की आती है तो हर बार इस वर्ग के मतदाताओं का मत प्रतिशत सर्वाधिक रहता है। इसलिए अनुसूचित जाति और जनजाति के मतदाताओं को रिझाने के लिए राजनीतिक दल कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं। कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में इन वर्गों को रिझाने के लिए तमाम घोषणाएं की है। वहीं अब इनकी निगाहें भाजपा के घोषणा पत्र पर भी टिकी हैं।

    Trending Videos

    उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में इस बार अनुसूचित जाति के लिए 13 और जनजाति के लिए दो सीटों को आरक्षित किया गया है। प्रदेश की वर्ष 2021 की अनुमानित जनसंख्या के अनुसार अनुसूचित जाति की जनसंख्या 22 लाख और अनुसूचित जनजाति के मतदाताओं की जनसंख्या 3.38 लाख के आसपास है। इस तरह यह आंकड़ा 25 लाख से अधिक बैठता है। खास बात यह है कि इन वर्गों का मतदान प्रतिशत हर चुनाव में सर्वाधिक रहता है। बीते 2017 के चुनाव में 74.60 प्रतिशत अनुसूचित जाति और 64.39 प्रतिशत अनुसूचित जनजाति के मतदाताओं ने मतदान किया था।

    Uttarakhand Election 2022: तैयारियां तेज, उत्तराखंड में सुरक्षित मतदान के लिए केंद्र से मांगी 115 कंपनी फोर्सआरक्षित सीटों पर अधिक मतदान

    वहीं बीते चुनाव की बात करें तो वर्ष 2002 के पहले चुनाव में सामान्य सीटों पर कुल 53.68 प्रतिशत मतदान हुआ, जबकि एससी पर 56.39 व एसटी सीटों पर सर्वाधिक 59.91 प्रतिशत वोटरों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इसके बाद वर्ष 2007 के में भी 66.30 प्रतिशत मतदान के साथ एसटी आरक्षित सीटों ने बढ़त बनाए रखी। वर्ष 2012 में तो इन सीटों पर मत प्रतिशत बढ़कर 75.07 तक पहुंच गया। 2017 में एसटी के लिए आरक्षित सीटों पर 74.60 प्रतिशत मतदान के साथ पहले स्थान पर रहे।

    प्रदेश में हैं पांच जनजातियां, 65 अनुसूचित जातियां

    भारत सरकार ने वर्ष 1967 में पांच जनजातियां थारू, बुक्सा, भोटिया, राजी एवं जौनसारी को अनुसूचित जनजाति घोषित किया गया है। इन पांचों जनजातियों में बुक्सा एवं राजी जनजाति अन्य जनजातियों से काफी पिछड़ी एवं निर्धन होने के कारण उन्हें आदिम समूह की श्रेणी में रखा गया है। वहीं, प्रदेश में 65 अनुसूचित जातियां चिह्नित की गई हैं। वर्ष 2000 से पहले इसकी संख्या 66 थी। संशोधन के बाद 61 क्रम में रावत जाति को हटा दिया गया था।

    जिलेवार अनुसूचित जाति-जनजाति जिला- जनसंख्या

    उत्तरकाशी - 80567 टिहरी - 79317 देहरादून - 102130 पौड़ी - 228901

    रुद्रप्रयाग - 122361

    पिथौरागढ़ - 120378 अल्मोड़ा - 150995 नैनीताल - 191206 बागेश्वर - 72061 चम्पावत - 47383 यूएस नगर - 238264 हरिद्वार - 411274 चमोली - 91577

    (नोट: आंकड़े वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार)अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित विधानसभा सीटें

    पुरोला, घनसाली, राजपुर रोड, ज्वालापुर, झबरेड़ा, पौड़ी, थराली, गंगोलीहाट, बागेश्वर, सोमेश्वर, नैनीताल, बाजपुर और भगवानपुर।

    अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित सीटें

    चकराता और नानकमत्ता।

    स्रोत : www.amarujala.com

    Do you want to see answer or more ?
    Mohammed 1 month ago
    4

    Guys, does anyone know the answer?

    Click For Answer