if you want to remove an article from website contact us from top.

    what is the difference between flag hoisting and flag unfurling in hindi

    Mohammed

    Guys, does anyone know the answer?

    get what is the difference between flag hoisting and flag unfurling in hindi from screen.

    ​15 अगस्त और 26 जनवरी को झंडा फहराने में हैं ये अंतर, जानें

    Hindi अपना बाजार Photogallery Read and earn Daily LOGIN

    ट्रेंडिंग

    #पद्म पुरस्कारों का ऐलान

    #क्या प्रॉपगैंडा कर रहा बीबीसी?

    #दिल्ली-एनसीआर में बूंदाबांदी

    #बीबीसी डॉक्यूमेंट्री विवाद

    Hindi NewsPhotosEducation-CareerWhat Are The Difference Between Flag Hoisting And Unfurling

    15 अगस्त और 26 जनवरी को झंडा फहराने में हैं ये अंतर, जानें

    8 1 1

    m salahuddin | Navbharat Times | Updated: 14 Aug 2019, 5:03 am

    1/5

    ​15 अगस्त और 26 जनवरी को झंडा फहराने में हैं ये अंतर, जानें

    हमारा राष्ट्रीय ध्वज हमारी शान और गौरव का प्रतीक है। हर साल 15 अगस्त और 26 जनवरी को झंडा फहराया जाता है। लेकिन 15 अगस्त और 26 जनवरी को झंडा फहराने में कुछ फर्क होता है। आइए आपको ऐसे ही 3 बड़े फर्क के बारे में बताते हैं...

    2/5

    ​ध्वजारोहण (Flag Hoisting) और झंडा फहराना (Flag Unfurling)

    15 अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस वाले दिन राष्ट्रीय ध्वज को ऊपर खींचा जाता है और फिर फहराया जाता है। इसे ध्वजारोहण कहा जाता है। वहीं 26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस वाले दिन राष्ट्रीय ध्वज ऊपर बंधा रहता है। उसे खोलकर फहराया जाता है जिसे झंडा फहराना कहते हैं। अंग्रेजी में ध्वजारोहण के लिए Flag Hoisting और झंडा फहराने के लिए Flag Unfurling शब्द का इस्तेमाल किया जाता है।

    3/5

    ​प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति

    15 अगस्त को आयोजित होने वाले मुख्य कार्यक्रम में देश के प्रधानमंत्री शामिल होते हैं। इस मौके पर प्रधानमंत्री ही ध्वजारोहण करते हैं। 26 जनवरी को आयोजित होने वाले मुख्य कार्यक्रम में राष्ट्रपति झंडा फहराते हैं।

    4/5

    ​स्थान का फर्क

    स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मुख्य कार्यक्रम का आयोजन लाल किले पर होता है। वहीं प्रधानमंत्री ध्वजारोहण करते हैं। प्रधानमंत्री इस मौके पर लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित करते हैं। वहीं गणतंत्र दिवस के मुख्य कार्यक्रम का आयोजन राजपथ पर होता है। गणतंत्र दिवस वाले दिन राष्ट्रपति झंडा फहराते हैं।

    5/5

    26 जनवरी को ही राष्ट्रपति क्यों फहराते हैं ध्वज?

    प्रधानमंत्री देश के राजनीतिक प्रमुख होते हैं जबकि राष्ट्रपति संवैधानिक प्रमुख। देश का संविधान 26 जनवरी, 1950 को संविधान लागू हुआ। उससे पहले न देश में संविधान था और न राष्ट्रपति। इसी वजह से हर साल 26 जनवरी को राष्ट्रपति राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं।

    बहुत रोचक हैं रक्षाबंधन के ये अनसुने किस्से

    अगली गैलरी अगली गैलरी

    बहुत रोचक हैं रक्षाबंधन के ये अनसुने किस्से

    m salahuddin | Navbharat Times | Updated: 14 Aug 2019, 3:47 am

    1/8

    ​बहुत रोचक हैं रक्षाबंधन के ये अनसुने किस्से

    भाइयों और बहनों के बीच प्रेम और मजबूत बंधन का प्रतीक रक्षाबंधन का त्योहार आज है। आइए आज इस मौके पर रक्षाबंधन से जुड़ीं रोचक बातें जानते हैं...

    2/8

    रबींद्रनाथ टैगोर और रक्षाबंधन

    रबींद्रनाथ टैगोर ने राखी का इस्तेमाल सामाजिक सौहार्द को बढ़ाने के लिए किया था। उन्होंने सुझाव दिया था कि स्वतंत्रता संग्राम को मजबूत बनाने के लिए और हिंदू एवं मुस्लिम के बीच सांप्रदायिक सौहार्द को बढ़ावा देने के लिए रक्षाबंधन अहम है।

    3/8

    पोरस और सिकंदर की कहानी

    सिकंदर की पत्नी ने पोरस को राखी बांधी थी। इसी वजह से एक युद्ध में पोरस ने सिकंदर को जान से नहीं मारा।

    4/8

    कुमायूं का रक्षाबंधन

    उत्तराखंड के कुमायूं में रक्षाबंधन का त्योहार अलग तरीके से मनाया जाता है। राखी बांधने के अलावा इस मौके पर लोग जनेऊ भी बदलते हैं।

    5/8

    आंध्र प्रदेश में भाई-बहन का त्योहार

    आंध्र प्रदेश में भी इस तरह का एक त्योहार मनाया जाता है। इसका नाम अन्ना चेल्ली पसुमकलम है। यह त्योहार दिवाली के तीसरे या चौथे दिन पड़ता है। इस दिन बहन अपने भाई के लिए खाना बनाती है और स्नेह एवं प्रेम के साथ परोसती है। भाई अपनी बहन को उपहार और आशीर्वाद देता है। इस त्योहार का मुख्य मकसद बहन और भाई के बीच संबंध को मजबूत बनाना है। भाई अपने बहन की रक्षा करने और मुश्किल समय में उसका साथ देने का वादा करता है।

    स्रोत : navbharattimes.indiatimes.com

    Republic Day 2023: Know the difference between 'flag hoisting' and 'flag unfurling'

    Know difference between hoisting the flag on Independence Day and Republic Day.

    HomeLifestyle

    TOP RECOMMENDED STORIES

    Pathaan row: BJP MLA Hari Bhushan calls Shah Rukh...

    Padma Awards 2023: Raveena Tandon, RRR composer M...

    Republic Day 2023: Over 200 participants of PM's ...

    'So thrilled': Virat Kohli after RCB won the bid ...

    Pathaan: VHP, Bajrang Dal withdraw protest agains...

    Republic Day 2023 travel restrictions: Know which...

    Mumbai-Goa highway to save 5 hours, to be modelle...

    Pathaan midnight shows: YRF begins late-night sho...

    Meet Rishi Shiv, eight-year-old android developer...

    Will Rick and Morty Season 7 be delayed amid Just...

    Republic Day Sale 2023: From vehicles to gadgets,...

    Basant Panchami 2023: Know why Saraswati devotees...

    Delhi Police busts liquor smuggling gang inspired...

    UP: Dalit student beaten in Shahjahanpur over gar...

    Kisi Ka Bhai Kisi Ka Jaan teaser: Shehnaaz Gill w...

    Does this line from Pathaan confirm Shah Rukh Kha...

    Sayantani Ghosh REVEALS the big twist in Alibaba ...

    S Jaishankar slams comments by US ex-official, sa...

    UPSSSC PET Result 2022 DECLARED at upsssc.gov.in:...

    Pathaan post-credit scenes explained: How Shah Ru...

    Republic Day 2023: Transgender police constables ...

    Know possible reasons why your dog is coughing, h...

    New flight ticket refund rules: Airlines to pay 7...

    स्रोत : www.dnaindia.com

    74th Republic Day 2023 difference between flag hoisting and flag Unfurling on 26 january and 15 august uppm

    हर साल भारत में 26 जनवरी के दिन गणतंत्र दिवस (Republic Day) बड़े धूमधाम से मनाया जाता है. दिल्ली के राजपथ पर होने वाला परेड (Republic Day parade) गणतंत्र दिवस का मुख्य आकर्षण अलग-अलग राज्यों की झांकियां होती हैं.

    Zee UP-UttarakhandUPUK Trending News

    Republic Day 2023: स्वतंत्रता दिवस से अलग होता है गणतंत्र दिवस को झंडा फहराने का तरीका, क्या आप जानते हैं अंतर ?

    Republic Day 2023: स्वतंत्रता दिवस से अलग होता है गणतंत्र दिवस को झंडा फहराने का तरीका, क्या आप जानते हैं अंतर ? Flag Hoisting vs Unfurling: हर साल 26 जनवरी और 15 अगस्त को झंडा फहराया जाता है. क्या आप दोनों राष्ट्रीय दिवस पर झंडा फहराने में अंतर जानते हैं ?

    Written By  Zee News Desk|Last Updated: Jan 23, 2023, 12:12 PM IST

    Trending Photos

    6 Ganesh Jayanti 2023

    Ganesha Jayanti 2023: गणेश जयंती पर लग रहा पंचक और भद्रा, विनायक चुतर्थी के दिन कर लें ये सरल उपाय, सभी दुखों से मिलेगा छुटकारा

    6 Republic Day 2023

    Republic Day 2023: देश की आजादी तक कितनी बार बदला राष्ट्रीय ध्वज, तस्वीरों में देखें तिरंगे की यात्रा की पूरी कहानी

    6

    Basant Panchami 2023

    Basant Panchami 2023 Shopping: बसंत पंचमी के दिन खरीदें ये चीजें, मां सरस्वती की कृपा से घर में होने लगेगी बरकत

    6 Shattila Ekadashi

    Shattila Ekadashi 2023: षटतिला एकादशी के दिन भूलकर भी न करें ये 6 काम, अगर किया तो झेलना पड़ेगा विष्णु भगवान का कोप

    74th Republic Day 2023: हर साल भारत में 26 जनवरी के दिन गणतंत्र दिवस (Republic Day) बड़े धूमधाम से मनाया जाता है. दिल्ली के राजपथ पर होने वाला परेड (Republic Day parade) गणतंत्र दिवस का मुख्य आकर्षण अलग-अलग राज्यों की झांकियां होती हैं. इस वर्ष देश गुरुवार, 26 जनवरी 2023 को अपना 73वां गणतंत्र दिवस मनाएगा. हर साल गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) के मौके पर राजपथ पर राष्ट्रपति तिरंगा फहराते हैं. राष्ट्रीय ध्वज हमारे देश की शान और गौरव का प्रतीक है. हर साल 15 अगस्त और 26 जनवरी को झंडा फहराया जाता है, लेकिन दोनों ही मौकों पर झंडा फहराने में अंतर होता है. क्या आप जानते हैं दोनों राष्ट्रीय दिवस पर झंडा फहराने में क्या अंतर है? अगर नहीं इस आर्टिकल में हम आपको उन अंतरों के बारे में बताने जा रहे हैं...पहला अंतर- ध्वजारोहण और झंडा फहराना 

    15 अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस (Indipendence Day) वाले दिन राष्ट्रीय ध्वज को ऊपर की ओर खींचा जाता है. इसके बाद फहराया जाता है. दरअसल, जिस दिन भारत को आजादी मिली थी, उस दिन ब्रिटिश सरकार ने अपना झंडा उतारकर भारत के तिरंगे को ऊपर चढ़ाया था. यही वजह है कि हर साल 15 अगस्त को तिरंगा ऊपर खींचकर फिर फहराया जाता है. इस प्रक्रिया को ध्वजारोहण (Flag Hoisting) कहते हैं. वहीं, 26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस (Republic Day) वाले दिन राष्ट्रीय ध्वज ऊपर बंधा रहता है. उसे केवल फहराया जाता है. यही वजह है की उसे ध्वजारोहण नहीं बल्कि झंडा फहराना (Flag Unfurling) कहते हैं.

    by Taboola Sponsored Links You May Like

    If You See This Bug You Have A Big Problem

    Bedtimez

    Are You From Turkey? You Might Qualify for an Online Job at an American Company

    Work From Home Jobs

    यह भी पढ़ें- Republic Day 2023: देश की आजादी तक कितनी बार बदला राष्ट्रीय ध्वज, तस्वीरों में देखें तिरंगे की यात्रा की पूरी कहानीदूसरा अंतर- प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति

    26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस पर आयोजित होने वाले मुख्य कार्यक्रम में देश के राष्ट्रपति तिरंगा फहराते हैं. दरअसल, देश का राजनीतिक प्रमुख प्रधानमंत्री होता है जबकि राष्ट्रपति संवैधानिक प्रमुख होता है. देश का संविधान 26 जनवरी, 1950 को लागू हुआ था. उससे पहले न देश में संविधान था और न राष्ट्रपति का पद. इसी वजह से हर साल 26 जनवरी को राष्ट्रपति ही राष्ट्रीय ध्वज 'तिरंगा' फहराते हैं. वहीं, 15 अगस्त को आयोजित होने वाले मुख्य कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ध्वजारोहण करते हैं.

    तीसरा अंतर- आयोजन स्थल

    गणतंत्र दिवस के मुख्य कार्यक्रम का आयोजन राजपथ पर किया जाता है और राष्ट्रपति झंडा फहराते हैं. जबकि स्वतंत्रता दिवस के मौके पर मुख्य कार्यक्रम का आयोजन राजधानी दिल्ली स्थित लाल किले पर किया जाता है. इस दिन प्रधानमंत्री ध्वजारोहण के बाद लाल किले से देशवासियों को संबोधित करते हैं.

    यह भी पढ़ें- Republic Day 2023 Wishes: "तिरंगे से खूबसूरत कोई कफन नहीं होता..." गणतंत्र दिवस के मौके पर अपनों को भेजें ये देशभक्ति भरे संदेश, साथ मनाएं जश्न15 अगस्त और 26 जनवरी 

    भारत 15 अगस्त, 1947 को अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हुआ था. देश की आजादी के लिए कई वीर सपूतों ने अपनी जान की बाजी लगाई थी. तब जाकर कहीं भारत दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश के रूप में सामने आया है. यही वजह है कि 15 अगस्त भारतीय इतिहास में एक महत्वपूर्ण दिन माना जाता है. आजादी के जश्न को मनाने के लिए हर साल यह राष्ट्रीय दिवस मनाया जाता है. वहीं, 26 जनवरी 1950 में इस दिन संविधान लागू किया गया था. इसके कई कारण थे. देश स्वतंत्र होने के बाद 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा ने संविधान अपनाया था. वहीं, 26 जनवरी 1950 को संविधान को लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली के साथ लागू किया गया. इस दिन भारत को पूर्ण गणतंत्र घोषित किया गया.

    यह भी देखें- Republic Day: पिंगली वेंकैया से पहले भी कइयों ने बनाए थे भारत के ध्वज, जानें आजादी से पहले कैसा दिखता था झंडा..

    स्रोत : zeenews.india.com

    Do you want to see answer or more ?
    Mohammed 7 day ago
    4

    Guys, does anyone know the answer?

    Click For Answer